IND VS ENG: अक्षर पटेल की कामयाबी का राज जानिये (Axar Patel/Instagram)

IND VS ENG: अक्षर पटेल की कामयाबी का राज जानिये (Axar Patel/Instagram)

अक्षर पटेल (Axar Patel) का इंग्लैंड के खिलाफ बेहतरीन प्रदर्शन जारी, अहमदाबाद में खेले जा रहे चौथे टेस्ट की पहली पारी में चटकाए 4 विकेट.

नई दिल्ली. भारत के बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज अक्षर पटेल (Axar Patel) का अच्छा प्रदर्शन जारी है. अक्षर पटेल ने इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट में भी गजब की गेंदबाजी की और पहली पारी में 4 विकेट चटकाए. अक्षर पटेल ने एक बार फिर अपने पहले ही ओवर में विकेट लिया और इंग्लैंड के बल्लेबाज उनके आगे काफी परेशान दिखे. अक्षर पटेल ने चौथे टेस्ट में सबसे पहले डोम सिब्ली को आउट किया. इसके बार क्राउली भी अक्षर पटेल का शिकार बने. डेनियल लॉरेंस और डोम बेस को आउट कर उन्होंने अपने चार विकेट पूरे किये.

अक्षर पटेल ने इसी टेस्ट सीरीज में अपना डेब्यू किया है और वो क्रिकेट के सबसे बड़े फॉर्मेट में आते ही छा गए हैं. अक्षर पटेल इस टेस्ट सीरीज की 5 पारियों में 22 विकेट चटका चुके हैं. अक्षर पटेल की गेंदबाजी औसत और स्ट्राइक रेट सबसे अच्छा है, उनकी विकेट लेने की रफ्तार अश्विन से भी तेज है. दिलचस्प बात ये है कि अक्षर पटेल के पास ना तो स्पिन है और ना ही लूप लेकिन इसके बावजूद वो विकेट लेने में कामयाब हो रहे हैं. आइए आपको बताते हैं उनकी कामयाबी की 3 बड़ी वजहें.

अक्षर पटेल का निशाना अचूक
मौजूदा वक्त में बहुत ही कम ऐसे गेंदबाज हैं जिनकी गेंद का टप्पा बिलकुल सटीक है और अक्षर पटेल पटेल उन्हीं में से एक हैं. अक्षर पटेल की लाइन-लेंग्थ उनकी बड़ी ताकत है. वो एक ही टप्पे पर गेंद को फेंकने में माहिर हैं और इससे अकसर बल्लेबाज अपना संयम खोकर गलती कर बैठता है. इंग्लैंड सीरीज में अबतक अक्षर पटेल ने सबसे ज्यादा 60 फीसदी गेंद बिलकुल स्टंप पर फेंकी हैं. यही वजह है कि उन्होंने ज्यादातर विकेट बोल्ड या LBW के तौर पर लिये हैं.अक्षर पटेल की रफ्तार

अक्षर पटेल की रफ्तार दूसरे स्पिन गेंदबाजों से थोड़ी तेज है. यही वजह है कि उन्हें स्वीप शॉट खेलकर बांधा नहीं जा सकता. पटेल गेंद को ज्यादा फ्लाइट नहीं देते और गेंद तेजी से आती है जिससे उनके खिलाफ स्वीप खेलने में जोखिम होता है. अक्षर ने इंग्लिश बल्लेबाजों का सबसे बड़ा हथियार स्वीप ही बंद किया हुआ है.

अक्षर पटेल का कद
अक्षर पटेल लंबे कद के स्पिनर हैं और इससे उन्हें बहुत फायदा मिलता है. उनकी गेंदों में अतिरिक्त उछाल है जो बल्लेबाजों के लिए चिंता की वजह बनता है. अक्षर पटेल की इतनी जबर्दस्त गेंदबाजी के बाद अब टीम इंडिया और उसके फैंस को जडेजा की याद तक नहीं आ रही है.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here