उत्तरी चीन में अधिकारियों ने ऊंटों के लिए लगाए गए ट्रैफिक सिग्नल का उद्घाटन किया. (प्रतीकात्मक)

उत्तरी चीन में अधिकारियों ने ऊंटों के लिए लगाए गए ट्रैफिक सिग्नल का उद्घाटन किया. (प्रतीकात्मक)

Traffic Signals for Camels: उत्तरी चीन में अधिकारियों ने ऊंटों के लिए लगाए गए ट्रैफिक सिग्नल का उद्घाटन किया. ECNS के अनुसार यह सिग्नल गांसू प्रांत के डुनहुआंग शहर के नजदीक लगाया गया है.

डुनहुआंग. दुनिया में कई देश अभी भी ऐसे हैं, जहां नागरिक यातायात नियमों की धज्जियां उड़ाते देखे जा सकते हैं. ऐसे में चीन ने नियमों की मदद से ऊंटों को अनुशासन में लाने का विचार किया है. चीन में एक रेगिस्तान में ऊंटों के लिए ट्रैफिक सिग्नल लगाए गए हैं. इसके बाद रेतीली जमीन से गुजरने वाले चार पैर वाले जीव को पहले लाइट देखनी होगी. लाल होने पर उन्हें रुकना होगा. वहीं, हरे का मतलब है कि वे आगे का सफर जारी रख सकते हैं. आगे समझते हैं कि आखिर सरकार को इस तरह के नियम की जरूरत क्यों पड़ी.

उत्तरी चीन में अधिकारियों ने ऊंटों के लिए लगाए गए ट्रैफिक सिग्नल का उद्घाटन किया. ECNS के अनुसार यह सिग्नल गांसू प्रांत के डुनहुआंग शहर के नजदीक लगाया गया है. कहा जा रहा है कि यह दुनिया का पहला ऐसा सिग्नल है, जो ऊंटों के लिए लगाया गया है. ECNS के मुताबिक, इस इलाके में आने वाले लोगों के लिए ऊंट की सवारी करना खास आकर्षण का केंद्र होता है. वहीं, अब मिंग्सा पहाड़ और क्रीसेंट स्प्रिंग में आने वाले पर्यटकों और ऊंट के बीच टकराव की समस्या पर लगाम लग जाएगी.

इससे एक बात तो साफ होती है कि सरकार ने यह कदम पर्यटकों की सुविधा को ध्यान में रखकर उठाया है. ट्रैफिक लाइट्स बीते रविवार से शुरू हो गई हैं. सीएनएन की रिपोर्ट बताती है कि बीते कुछ समय में इस इलाके में पर्यटकों की संख्या में खासा इजाफा हुआ है. ऐसे में सरकार के इस फैसले के बाद पर्यटकों और रेत में सफर करने वाले ऊंटों के बीच टकराने की समस्य़ा खत्म हो सकती है. खास बात है कि मिंग्शा पहाड़ को सिंगिंग सेंड्स पहाड़ भी कहा जाता है. ऐसा इसलिए कि यहां रेत पर चलने पर एक खास आवाज आती है.









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here