3.5 C
New York
Wednesday, February 8, 2023

Buy now

spot_img

आसान नहीं है इस बार भाजपा और सपा की राह। बढ़ते जनाधार ने बढ़ाई अन्य दलों की मुश्किलें

इसौली बसपा प्रत्याशी यश भद्र सिंह “मोनू” के बढ़ते जनाधार ने बढ़ाई अन्य दलों के मुश्किलें।बड़े भाई सोनू सिंह व बहन अर्चना सिंह के डोर टू डोर प्रचार से समर्थकों में दिख रहा उत्साह।

रिपोर्ट-विजय सिंह
~—————————————-~
सुलतानपुर- विधानसभा चुनावों में इसौली से बसपा प्रत्याशी यश भद्र सिंह”मोनू” बनाये जाने से समर्थकों और चाहने वालो की तादात लगातार बढ़ती जा रही है।पिछली दो विधानसभा चुनावों में मामूली वोटों के अन्तराल से चुनाव में शिकस्त खानी पड़ी थी।वजह बड़ी पार्टी से टिकट ना मिलना।इस बार बड़ी पार्टी का साथ मिला वही दूसरी तरफ उनके बड़े भाई चन्द्र भद्र सिंह “सोनू” खुद विधानसभा चुनाव ना लड़ने का फैसला लिया और अपने समर्थकों के साथ छोटे भाई के चुनाव की कमान सम्भाली।वहीं वार्ड नम्बर24 की जिला पंचायत सदस्य बहन अर्चना सिंह ने भी डोर टू डोर जनसंपर्क कर विरोधी खेमे में हलचल मचा दी है।महिलाओं का अर्चना सिंह के प्रति प्रेम देखने लायक होता है।जिस भी गाँव मे जाती है महिलाओं का बड़ा जनसमूह साथ आ जाता है।वहीं दूसरी तरफ सपा ने इस बार दो बार के लगातार विधायक रहे अबरार अहमद का टिकट काटकर पूर्व सांसद ताहिर खान को टिकट दिया।अब अबरार अहमद का नाराज होना लाजमी था।हालांकि ताहिर अहमद ने अबरार अहमद को मनाया भी लेकिन साथ दिल से था या दिखावा ये तो आने वाला वक़्त बतायेगा।सपा की परेशानी अभी खत्म नही हुई सपा के कद्दावर नेता बी. यम .यादव को टिकट न मिलने से बागी होकर कांग्रेस का दामन थामा औऱ टिकट भी मिल गया। बी. यम. यादव चुनाव में दमदारी से जुटे हुए हैं।वही भाजपा ने 2017 विधानसभा हारे हुए प्रत्याशी ओमप्रकाश पाण्डेय”बजरंगी” को पुनः अपना उम्मीदवार बनाया।टिकट की लाइन में लगे भाजपा के बड़े नेताओं को ये बात नागवार लगी।औऱ अंदर ही अंदर बगावत दिखाई देने लगा है।काफी समय समय से भाजपा जीत की बाट जोह रही है।बसपा प्रत्याशी मोनू सिंह से बातचीत पर उन्होंने बताया कि मेरी ताकत मेरी जनता है।उनके एक एक वोट का कर्ज रहेगा हमपर।उन्होंने जनता को भरोसा दिलाया कि जिस प्रकार उनके बड़े भाई,पिता व बाबा जनता की हर प्रकार की मदद करते आ रहे हैं।उसी प्रकार वह भी सभी लोगों की हरसंभव मदद का प्रयास करेंगे।उन्होंने कहा कि आप लोगों को किसी भी काम के लिए स्वयं आये किसी के परिचय की जरूरत नहीं है हमने विगत 20 वर्षों से अपना मोबाइल नम्बर भी नहीं बदला है।अगर किसी भी जरूरत मंद का फोन हमारे पास आया होगा तो हमने हर सम्भव मदद का प्रयास किया है।उन्होंने आगे कहा कि जाति पाँति की राजनीति करने वालों से सभी लोगों को सावधान रहने की आवश्यकता है।जनसेवक ऐसा चुने जो हर जरूरत पर आप के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल सके।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,706FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles