करनाल की जेल में बंद 10 आवाजों ने पूरी जेल के लिए खुशियों का माहौल बना दिया है. पिछले कई दिनों से करनाल जेल में रेडियो लाने की तयारी हो रही है. इसके तहत हाल के दिनों में इस जेल में रेडियो का ऑडिशंस और फिर ट्रेनिंग की प्रक्रिया पूरी हुई थी. वैसे तो यहां जेल रेडियो आने में समय है पर उससे ठीक पहले होली के आने पर बंदियों ने रेडियो की तैयारी के तौर पर प्रैक्टिस का एक सैशन चलाने का मन बना लिया है. तिनका तिनका फाउंडेशन की संस्थापक वर्तिका नन्दा के मुताबिक प्रेक्टिस की धूम को सभी बंदियों तक पहुंचाने के लिए होली का समय उपयुक्त लगा. बेरंग दिखती जेलों के लिए रेडियो रंग भरने का काम करेगा.

करीब दो घंटे होगी रिहर्सल
होली पर जेल में सुबह करीब दो घंटे तक प्रैक्टिस सैशन चलेगा जिसमे बंदी अपनी आवाज में लिखे गाने, अपनी कवितायें और अपनी जिंदगी की बातें सुनाएंगे. इस दौरान ये बंदी जेल पर लिखे अपने थीम सांग ” तिनका तिनका उम्मीदों का झरोखा ” को भी प्रस्तुत करेंगे. ” जिन्दा हूं, मैं ये सबको बताना है ” चलो होली का पर्व मनायें ” और ” मां मैं बताना चाहता हूं ” जैसे कार्यक्रम जेल रेडियो के मुख़्य आकर्षण रहेंगे . मुकेश, विवेक भारती, डॉ. अमित, वीरेंद्र, सोनिया, शिक्षा, सोनिया चौधरी, आरती और ज्योति की टीम इस जेल रेडियो के सपने को साकार करने में जुटी है.
बंदी बेहद उत्साहित हैंजेल की महिला बंदी सोनिया चौधरी और ज्योति का कहना है कि ये जेल रेडियो उनकी जिंदगी को यकीनी तौर पर बदलेगा. उन्होंने गानों, कविताओं और कहानियों की पोटली तैयार कर ली है. कार्यक्रम में सभी आइटम बंदियों के ही बनाए हुए होंगे.

हरियाणा की तीन जेलों में आ गया है उनका अपना रेडियो
हरियाणा की 19 जेलों में से 3 जेलों में रेडियो पहले ही लाया जा चुका है. इसी साल जनवरी फरवरी के महीने में पानीपत , फरीदाबाद , अम्बाला की सेंट्रल जेल में रेडियो का उद्घाटन हुआ है. हरियाणा के पहले जेल रेडियो का उद्घाटन श्री रणजीत सिंह (जेल मंत्री), श्री राजीव अरोड़ा आईएएस, अतिरिक्‍त मुख्‍य सचिव (गृह, जेल, आपराधिक अनुसंधान एवं न्‍याय, प्रशासन विभाग) और श्री के सेल्वराज, आईपीएस, जेल महानिरीक्षक, हरियाणा ने किया था.

इस समय हरियाणा की जेलों में रेडियो लाने का दूसरा चरण चल रहा है, जिसमे जिला जेल करनाल, जिला जेल रोहतक, जिला जेल गुरुग्राम और केंद्रीय कारागार (प्रथम) हिसार है. यह उम्मीद की जा रही है कि दूसरे चरण में जिला जेल करनाल में सबसे पहले रेडियो लाया जायेगा. इस जेल रेडियो को सफल बनाने में जेल के अधीक्षक श्री अमित कुमार और डीएसपी सुश्री शैलाक्षी भरद्वाज का खास योगदान रहा है. सुश्री शैलाक्षी भरद्वाज का कहना है कि जेल रेडियो के आडिशन से ही जेल में बदलाव महसूस होने लगा था. बंदी इसके माध्यम से अपनी कला को सामने लाने में बहुत दिलचस्पी दिखा रहे हैं.

तिनका तिनका फाउंडेशन की पहल
हरियाणा जेल रेडियो की संकल्पना तिनका तिनका फाउंडेशन की संस्थापक डॉ. वर्तिका नन्दा ने की है. जिला जेल, आगरा में 2019 में तिनका तिनका फाउंडेशन ने जेल रेडियो स्‍थापित किया था. तिनका मॉडल ऑफ प्रिजन रिफार्म के तहत देश की जेलों में रेडियो लाने पर काम हो रहा है. वर्तिका नन्दा दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कालेज में पत्रकारिता विभाग की प्रमुख हैं.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here