गुजरात एंट्री के लिए निगेटिव रिपोर्ट किया अनिवार्य

गुजरात एंट्री के लिए निगेटिव रिपोर्ट किया अनिवार्य

Corona Negative Certificate: दूसरे राज्‍यों से गुजरात आने वाले लोगों को एक अप्रैल से आरटी-पीसीआर जांच कराना और कोविड-19 मुक्त होने का प्रमाण पत्र देना अनिवार्य होगा. गुजरात सरकार ने शनिवार को इसकी घोषणा की है.

अहमदाबाद. गुजरात में दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों के लिए एक अप्रैल से आरटी-पीसीआर जांच कराना और कोविड-19 मुक्त होने का प्रमाण पत्र देना अनिवार्य होगा.
इससे पहले, प्रदेश सरकार ने यह नियम केवल पड़ोसी महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों के लिए बनाया था जो कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित है. राज्य स्वास्थ्य विभाग ने अधिसूचना में कहा, ‘‘कई राज्यों में कोरोना वायरस से संक्रमण की दर बढ़ रही है. यह भी देखा गया है कि यात्रा करने वालों के संक्रमित होने की आशंका अधिक है.’’

विभाग ने कहा कि इसलिए गुजरात में दाखिल होने वालों को यहां आने से 72 घंटे पहले आरटी-पीसीआर पद्धति से जांच कराना और संक्रमण मुक्त होने का रिपोर्ट प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा.

ये भी पढ़ें    कोरोना निगेटिव रिपोर्ट होने के बाद ही उत्तराखंड में मिलेगी एंट्री, इन राज्यों के लोगों की बढ़ेगी मुश्किलये भी पढ़ें   Big News: कोरोना की नई लहर को लेकर दिल्ली सरकार अलर्ट, एंट्री के लिए निगेटिव रिपोर्ट किया अनिवार्य

यात्रियों के लिए कर्नाटक सरकार ने निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य की
कर्नाटक सरकार ने गुरुवार को बेंगलुरु आने वाले लोगों के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य कर दी. राज्य सरकार का मकसद कोरोना वायरस की दूसरी लहर को ज्यादा फैलने से रोकना है और इसके लिए ये फैसला लिया गया है. सरकार का ये फैसला 1 अप्रैल से प्रभावी होगा. कर्नाटक के स्वास्थ्य और मेडिकल शिक्षा मंत्री डॉक्टर के. सुधाकर ने बृहत बेंगलुरु महानगर पालिके (बीबीएमपी) के अधिकारियों के साथ बैठक के बाद कहा, “बेंगलुरु में 60 फीसदी से ज्यादा मामले एक से दूसरे राज्य आने जाने वालों के हैं. लिहाजा ये फैसला बेंगलुरु आने वालों लोगों पर लागू होगा.” मौजूदा समय में कर्नाटक में आरटी-पीसीआर टेस्ट निगेटिव रिपोर्ट की मांग केवल वायरस संक्रमण से गंभीर तौर पर प्रभावित राज्यों जैसे पंजाब, चंडीगढ़, महाराष्ट्र और केरल के लिए अनिवार्य की गई है.

लेकिन, 1 अप्रैल से देश के किसी भी हिस्से से बेंगलुरु जाने वाले लोगों के लिए यह अनिवार्य होगी. पिछले 2 दिनों में कर्नाटक में 2 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं, इनमें से ज्यादातर मामले बेंगलुरु शहर क्षेत्र के हैं.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here