World Test Championship Final: रोहित शर्मा स्विंग का सामना कर पाएंगे? (फोटो-एएफपी)

World Test Championship Final: रोहित शर्मा स्विंग का सामना कर पाएंगे? (फोटो-एएफपी)

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) वनडे और टी20 फॉर्मेट के बेहतरीन बल्लेबाज हैं. टेस्ट क्रिकेट में भी उन्होंने बतौर ओपनर खुद को साबित किया है लेकिन इंग्लैंड के मुश्किल हालात में क्या हिटमैन हिट हो पाएगा?

नई दिल्ली. वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल (World Test Championship Final) के लिए टीम इंडिया का ऐलान हो चुका है. भारत ने बेहद ही मजबूत टीम चुनी है जो कि 18 जून को साउथैंप्टन के मैदान पर न्यूजीलैंड से भिड़ेगी. वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की अंक तालिका में टॉप पर रहने वाली टीम इंडिया के लिए खिताबी मुकाबला आसान नहीं होगा. क्योंकि उसका विरोधी न्यूजीलैंड है जिसके पास बेहतरीन तेज गेंदबाजों की पूरी फौज है, वहीं बड़ी बात ये है कि इंग्लैंड के हालात टीम इंडिया से ज्यादा न्यूजीलैंड को भाते हैं. इंग्लैंड में गेंद स्विंग होती है और टीम इंडिया के बल्लेबाजों को उसके खिलाफ दिक्कत पेश आती है. टीम इंडिया को अगर टेस्ट मैच का वर्ल्ड कप जीतना है तो उसके लिए रोहित शर्मा (Rohit Sharma) बेहद अहम खिलाड़ी होने वाले हैं. रोहित शर्मा वनडे और टी20 फॉर्मेट के तो बेहतरीन खिलाड़ी हैं. वनडे में तीन दोहरे शतक लगाने वाले इस बल्लेबाज से दुनिया का हर गेंदबाज खौफ खाता है. टेस्ट क्रिकेट में भी रोहित शर्मा ने पिछले दो सालों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है. बतौर ओपनर तो उन्होंने कमाल ही कर दिखाया है लेकिन क्या ये बल्लेबाज इंग्लैंड के मौसम और पिच पर अपना कमाल दिखा पाएगा? क्या रोहित शर्मा पर भरोसा किया जा सकता है? ये दो सवाल टीम इंडिया के फैंस के जहन में जरूर होंगे. रोहित शर्मा का टेस्ट करियर रोहित शर्मा का टेस्ट करियर बेहतरीन है. दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 38 टेस्ट मैचों में 46.69 के औसत से 2615 रन बनाए हैं. रोहित शर्मा के बल्ले से 7 शतक, 12 अर्धशतक निकले हैं. साल 2019 और 2021 में तो रोहित ने कमाल ही किया है. रोहित शर्मा ने टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करते हुए साल 2019 में 92.66 की औसत से 556 रन ठोके. इसके बाद 2021 में रोहित शर्मा ने 47 से ज्यादा की औसत से 474 रन बनाए. इसमें कोई दो राय नहीं है कि टेस्ट क्रिकेट में रोहित का जलवा है लेकिन दिक्कत की बात ये है कि इंग्लैंड में उन्हें टेस्ट क्रिकेट का ज्यादा अनुभव नहीं है. साथ ही स्विंग और उछाल भरी पिच पर रोहित को थोड़ी दिक्कत पेश आती है.रोहित शर्मा ने इंग्लैंड में महज एक टेस्ट मैच खेला है जिसमें वो 34 रन ही बना सके हैं. संयोग से रोहित शर्मा ने साउथैंप्टन में ही इंग्लैंड में अपना इकलौता टेस्ट खेला है. इंग्लैंड की तरह साउथ अफ्रीका में भी शुरुआती ओवरों में गेंद स्विंग होती है और रोहित शर्मा का वहां महज 15.37 का औसत है. न्यूजीलैंड के हालात इंग्लैंड से काफी मिलते-जुलते हैं और यहां भी रोहित ने सिर्फ 2 ही मैच खेले हैं. मतलब विदेशी सरजमीं पर खासतौर पर जहां गेंद स्विंग होती है वहां रोहित शर्मा को खेलने का अनुभव नहीं है. ऐसे में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल और इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में रोहित शर्मा को काफी दिक्कत पेश आ सकती है. यह भी पढ़ें: श्रीलंका दौरे पर 3 वनडे और 3 टी20 मैच खेलेगी टीम इंडिया, जानिये सीरीज का कार्यक्रम क्या रोहित शर्मा पर भरोसा किया जा सकता है?
रोहित शर्मा लगभग 14 साल से इंटरनेशनल क्रिकेट खेल रहे हैं, भले ही वो टेस्ट मैच में ज्यादा अनुभवी नहीं है लेकिन खेल की समझ उन्हें काफी ज्यादा है. अच्छी बात ये है कि साउथैंप्टन के मैदान पर रोहित शर्मा अगर सेट हो जाएं तो वो बड़ा स्कोर बना सकते हैं. रोहित शर्मा ने का साउथैंप्टन में 52 से ज्यादा का औसत है. रोज बाउल मैदान पर रोहित ने 2 वनडे और एक टेस्ट मैच खेला है और वो चार पारियों में 157 रन बना चुके हैं, जिसमें एक शतक भी शामिल है. रोहित शर्मा को बस शुरुआत में ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी और नील वैगनर की रफ्तार और स्विंग का सामना करना होगा. अगर रोहित शर्मा क्रीज पर सेट हो गए तो आप टीम इंडिया को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की ट्रॉफी उठाते देखेंगे.









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here