तापी. जिले के उच्छ्ल में बर्ड फ्लू के दोबारा दस्‍तक देने की पुष्टि ने लोगों को दहशत में ला दिया है. यहां के पोल्ट्री फार्म की मुर्गियों के दो सैम्पल्स पॉजिटिव आए हैं. इसके बाद प्रशासन ने निर्णय लिया है कि करीब 17 हजार मुर्गियो को मारा जाएगा. यह उच्छ्ल के नेशनल पोल्ट्री फार्म की घटना है. प्रशासनिक सूत्रों की माने तो जल्द ही जिला कलेक्टर की ओर से नोटिफिकेशन जारी होगा.

कोरोना वायरस के बीच देश में बर्ड फ्लू का खतरा भी बना हुआ है. इससे पहले खबर आई थी कि महाराष्ट्र के नंदुरबार जिले के नवापुर में 12 और पोल्ट्री फार्मों में बर्ड फ्लू से पक्षियों की मौत हो गई. इसके बाद तकरीबन एक लाख पक्षियों को मारने की तैयारी कर ली गई है.

देश के 9 राज्‍यों में बर्ड फ्लू
बीते महीने के आखिरी में केंद्र सरकार ने 9 राज्य केरल, हरियाणा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, गुजरात, उत्तर प्रदेश और पंजाब में पोल्ट्री पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि की थी. इसके साथ ही अब 12 से ज्यादा राज्यों मध्य प्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, दिल्ली, राजस्थान, जम्मू-कश्मीर और पंजाब में कौवे, प्रवासी और जंगली पक्षियों में एवियन इंफ्लुएंजा के बारे में बताया गया था.

महाराष्‍ट्र में भी पक्षियों की मौत
महाराष्ट्र के बुलढाणा, अमरावती और जलगांव में पक्षियों की मौत ने प्रशासन को चौंका दिया है. यहां से जमा किए गए नमूनों को भोपाल स्थित राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान और पुणे स्थित रोग जांच केंद्र में भेजा गया है जहां नमूनों की जांच की जा रही है.

बड़ा नुकसान हो रहा है पॉल्‍ट्री उद्योग का

मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री संजीव कुमार बालियान ने राज्‍य सभा में बताया था कि देश में बर्ड फ्लू के कारण देश में लगभग 4.5 लाख पक्षियों को मारा गया. वहीं लोगों ने पॉल्‍ट्री उद्योग से दूरी बनाई हुई है, इसलिए उपभाग में कमी आई है और उद्योग का बड़ा नुकसान हो रहा है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here