[ad_1]

चीन अपने स्‍पेस स्‍टेशन के लिए भेजेगा पहले 3 अंतरिक्षयात्री. (file pic)

चीन अपने स्‍पेस स्‍टेशन के लिए भेजेगा पहले 3 अंतरिक्षयात्री. (file pic)

China Space Station: शेनझोउ-12 में जाने वाले अंतरिक्ष यात्री कोर मॉड्यूल में तैनात होंगे और तीन महीनों तक अंतरिक्ष की कक्षा में रहेंगे.

बीजिंग. चीन गुरुवार की सुबह तीन महीनों के लिए अपने नये अंतरिक्ष स्टेशन में पहले तीन क्रू सदस्यों को भेजने के लिए तैयार है. देश की अंतरिक्ष एजेंसी ने बुधवार को यह घोषणा की. ‘चाइना मैन्ड स्पेस एजेंसी’ (सीएमएसए) निदेशक के सहायक ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि अंतरिक्ष यान ‘शेनझोउ-12’ का जियुक्वान उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से प्रक्षेपण किया जाएगा. यह अंतरिक्ष यान तीन यात्रियों … निए हैशेंग, लियु बोमिंग और तांग होंग्बो को चीन के अंतरिक्ष स्टेशन के निर्माण के लिए अंतरिक्ष में लेकर जाएगा.

अंतरिक्ष स्टेशन के निर्माण के दौरान यह अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर जाने वाला पहला मिशन होगा. सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) के अगले महीने होने वाले 100 वर्ष के जश्न समारोह के मद्देनजर यह मिशन शुरू किया जा रहा है.

शेनझोउ-12 में जाने वाले अंतरिक्ष यात्री कोर मॉड्यूल में तैनात होंगे और तीन महीनों तक अंतरिक्ष की कक्षा में रहेंगे. लॉन्ग मार्च-2एफ रॉकेट से यह यान प्रक्षेपित किया जाएगा. इस अंतरिक्ष स्टेशन के अगले साल तक तैयार होने की संभावना है.

चाइना मैन्ड स्पेस इंजीनियरिंग ऑफिस के निदेशक यांग लिवेई ने कहा कि अंतरिक्ष यात्री तीन महीनों के लिए अंतरिक्ष में रहेंगे और इस दौरान वे मरम्मत और देखरेख जैसे काम करेंगे. चीन की, अंतरिक्ष केंद्र के तैयार होने से पहले, इस साल और अगले साल अंतरिक्ष में 11 मिशन भेजने की योजना है.

चीन के अंतरिक्ष स्टेशन के अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) का प्रतिस्पर्धी होने की संभावना है जो पृथ्वी की निचली कक्षा में मॉड्यूलर अंतरिक्ष केंद्र है. आईएसएस नासा (अमेरिका), रोस्कोमोस (रूस), जाक्सा (जापान), ईएसए (यूरोप) और सीएसए (कनाडा) की परियोजना है. आईएसएस के काम करने की अवधि समाप्त होने के बाद चीन का तियांगोंग इकलौता अंतरिक्ष स्टेशन हो सकता है.







[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here