जी-7 समिट में बाइडेन ने कोरोना वैक्सीनेशन समेत कई अहम मुद्दों पर चर्चा की.

जी-7 समिट में बाइडेन ने कोरोना वैक्सीनेशन समेत कई अहम मुद्दों पर चर्चा की.

G-7 Summit: अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने जी-7 शिखर सम्मेलन में लोकतांत्रिक देशों पर बंधुआ मजदूरी प्रथाओं को लेकर चीन के बहिष्कार का दबाव बनाने की योजना तैयार की है.

वॉशिंगटन. चीन के बढ़ते मानवाधिकारों के उल्लंघर पर जी-7 के सभी देश एकजुट हो गए हैं. जी-7 समूह के नेताओं ने चीन के वैश्विक अभियान के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए एक बुनियादी ढांचा योजना का अनावरण किया है. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने जी-7 शिखर सम्मेलन में लोकतांत्रिक देशों पर बंधुआ मजदूरी प्रथाओं को लेकर चीन के बहिष्कार का दबाव बनाने की योजना तैयार की है.

जो बाइडेन ने कहा, जी-7 स्पष्ट रूप से झिंजियांग और हांगकांग में मानवाधिकारों के हनन का आह्वान करने, प्रतिस्पर्धा को कम करने और सौर कृषि और परिधान उद्योगों में जबरन श्रम के खिलाफ गंभीर कार्रवाई करने के लिए चीन की गैर-बाजार नीतियों से निपटने के लिए आम नीति का समन्वय करने के लिए सहमत हुआ.

सभी देशों को एक साथ आवाज उठाने की है जरूरत

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने जी-7 शिखर सम्मेलन में लोकतांत्रिक देशों पर बंधुआ मजदूरी प्रथाओं को लेकर चीन के बहिष्कार का दबाव बनाने की योजना तैयार की है. अधिकारियों ने कहा कि बाइडेन चाहते हैं कि जी-7 के नेता उइगर मुसलमानों और अन्य जातीय अल्पसंख्यकों से बंधुआ मजदूरी कराने के खिलाफ एक स्वर में आवाज उठाएं.ये भी पढे़ं- नौसेना के लिए पनडुब्बी बनाएगा DRDO, परमाणु क्षमता के साथ होगी मेड इन इंडिया

कोरोना वैक्सीनेशन के प्रति जाहिर की गंभीरता

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि कोविड-19 महामारी से दुनिया की लड़ाई में मदद ‘‘लगातार एवं लंबे समय तक चलने वाली परियोजना’ है. बाइडेन ने रविवार को कहा कि जी-7 समूह के शिखर सम्मेलन में शामिल होने आए नेताओं के बीच ‘ स्पष्ट रूप से सहमति’ है कि टीके की खुराक दान करने की उनकी प्रतिबद्धता खत्म नहीं होगी.

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस सम्मेलन की मेजबानी की और रविवार को जी-7 समूह ने गरीब देशों को कोविड-19 टीके की एक अरब खुराक दान करने का वचन दिया.

ये भी पढ़ेंः- प्रधानमंत्री मोदी बोले- जी-7 का स्वाभाविक सहयोगी है भारत

पहली विदेश यात्रा पर हैं जो बाइडेन

राष्ट्रपति पद संभालने के पांच महीने के भीतर बाइडेन की यह पहली विदेश यात्रा है. जी-7 शिखर सम्मेलन संपन्न होने के बाद बाइडन लंदन जाएंगे जहां वह अपराह्न ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से मुलाकात करेंगे. बाइडन के साथ अमेरिका की प्रथम महिला जील बाइडन भी मौजूद होंगी.

इसके बाद बाइडन बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्स जाएंगे, जहां वह उत्तर अटलांटिक संधि संगठन नाटो की बैठक में हिस्सा लेंगे. बाइडन स्विट्ज़रलैंड के जिनेवा में बुधवार को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ मुलाकात करेंगे.









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here