चीन ने पिछले साल भी दुनिया के सबसे ऊंचाई वाले तिब्बत के सुदूर हिमालयी इलाके में बेस स्टेशन शुरू किया था.  (AP)

चीन ने पिछले साल भी दुनिया के सबसे ऊंचाई वाले तिब्बत के सुदूर हिमालयी इलाके में बेस स्टेशन शुरू किया था. (AP)

चीन की सेना का कहना है कि उसने अपने सैनिकों को 5जी सर्विस (5 G Signal Base) देने के लिए पिछले साल गनबाला में प्राइवेट सेक्टर के साथ मिलकर इस स्टेशन का काम शुरू किया था.

बीजिंग. चीन ने तिब्बत बॉर्डर (Tibet Border) के पास दुनिया के सबसे ऊंचे रडार स्थल पर 5जी सिग्नल बेस (5 G Signal Base) खोला है. यहां के गनबाला रडार स्टेशन पर चीन ने इंटरनेट सर्विस शुरू की है. भारत के लिहाज से ये खबर इसलिए अहम है, क्योंकि गनबाला रडार स्टेशन भारत और भूटान की सीमा से सटा हुआ है.

चीन की सेना की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, इस टावर की समुद्र तल से ऊंचाई 5,374 मीटर है. यह दुनिया का सबसे ज्यादा ऊंचाई पर बना मैनुअली काम करने वाला रडार स्टेशन है. चीन की सेना का कहना है कि उसने अपने सैनिकों को 5जी सर्विस देने के लिए पिछले साल गनबाला में प्राइवेट सेक्टर के साथ मिलकर इस स्टेशन का काम शुरू किया था.

चीन: शिंजियांग की कोयला खदान में आई बाढ़ ने मचाई तबाही, 21 खनिक फंसे

चीन की सेना की वेबसाइट पर बताया गया है कि इस सर्विस के शुरू होने के बाद सैनिक सोसायटी से जुड़े रह सकेंगे. इसे बॉर्डर एरिया में तैनात जवानों की ट्रेनिंग को और बेहतर करने के मकसद से शुरू किया गया है.अब लाल बत्ती देखकर जानवर भी रुकेंगे, चीन ने ऊंटों के लिए लगाया पहला ट्रैफिक सिग्नल

चीन ने पिछले साल भी दुनिया के सबसे ऊंचाई वाले तिब्बत के सुदूर हिमालयी इलाके में बेस स्टेशन शुरू किया था. ये बेस स्टेशन 6,500 मीटर की ऊंचाई पर बनाया गया था. चीन का कहना था कि इस सुविधा से पर्वतारोहण, वैज्ञानिक अनुसंधान, पर्यावरण निगरानी और हाई-डेफिनेशन स्ट्रीमिंग में मदद मिलेगी. (एजेंसी इनपुट)









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here