फैंस के कारण मैदान पर लगी आग

फैंस के कारण मैदान पर लगी आग

ग्रीस (Greece) की ओलिंपियोक्स (Olympiacos) और पीओकेएस (PAOK) के फैंस को काफी हिंसक माना जाता है और कई बार मैच के दौरान झड़प हो चुकी हैं

नई दिल्ली. फुटबॉल के प्रशंसकों को दुनिया के सबसे जुनूनी फैंस के तौर पर जाना जाता है. बात चाहे राष्ट्रीय टीम की हो या पसंदीदा क्लब की अपने टीमों के साथ फैंस की भावनाएं जुड़ी होती हैं. जहां जीत के जश्न में फैंस की खुशी का ठिकाना नहीं रहता वहीं हार के आक्रोश में वह कई बार अपनी हदें पार कर देते हैं. दुनिया भर में ऐसी प्रतिद्वंदिताएं हैं जहां कई बार टीमों की हार हिंसा का रूप ले लेती हैं. ग्रीस के दो घरेलू क्लब ओलिंपियाकोस (Olympiacos) और पीएओके (PAOK) ऐसे ही क्लब में शामिल हैं जिनके फैंस टीम से इतना जुड़ाव महसूस करते हैं कि कई बार पसंदीदा टीम की हार को बर्दाशत नहीं कर पाते. फैंस ने गुस्से में मैदान में लगा दी थी आग साल 2016 में ग्रीक कप (Greek Cup 2016) के दौरान एक दोनों टीमों के बीच ऐसा कुछ हुआ जिसके बाद फैंस ने गुस्से में मैदान पर आग लगा दी थी. थेसालोनिकि में दोनों टीमों के बीच मैच खेला जा रहा था जिसमें ओलिंपियोक्स 2-1 से आगे थे. मैच की आखिरी मिनट में स्टैंड में फैंस के बीच लड़ाई शुरू कर दी जिसके बाद उन्होंने ग्राउंड पर पठाखे फेंक दिए जिससे उस पर आग लग गई. दअसल मैच के दौरान रेफरी ने पीएओके के खिलाड़ी को डाइव लगाने के लिए येलौ कार्ड दिया.

पुलिस के मुश्किल हो गया था फैंस को रोकना फैंस स्टैंड से मैदान पर आकर रेफरी से भिड़ गए. वहीं स्टैंड में दोनों क्लब के फैंस स्टैंड में भी एक-दूसरे से लड़ते रहे जिसे रोकने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा. इसके बाद फैंस और पुलिस के बीच झड़प शुरू हो गईं. फैंस को काबू में लाने के लिए पुलिस को आंसू गैस का इस्तेमाल करने पड़े. फैंस ने विरोधियों खिलाड़ियों पर भी जले हुए पटाखे फेंके. इसके बाद मैच को रद्द कर दिया गया. दोनों क्लब के बीच कई हो चुकी है लड़ाई
यह दोनों ही टीमें ग्रीस के सबसे बड़े क्लब हैं. इन दोनों के बीच की प्रतिद्वंदिता दरअसल दोनों शहरों के कारण हैं. ओलिपियोक्स पिरायूस शहर से जुड़ें हैं वहीं पीएओके थेसालोनिकि से जुड़े है जो कि मसेडोनिया की राजधानी है. थेसोलोनिकि के लोगों को लगता है कि ओलिपियोक्स का ग्रीक सरकार ज्यादा समर्थन करती है और इसी कारण उसे अपना प्रतिद्वंदी मानती है. साल 1927 से दोनों के बीच यह प्रतिद्वंदिता जारी है जिसमें की बार दोनों क्लब के फैंस आमने-सामने आ चुके हैं. इन दोनों क्लब के बीच नफरत बढ़ गई जब साल 1960 में पीएओके के स्टार खिलाड़ी गिरोगोस कुडास ने ओलिपियोक्स जाने का फैसला किया. इस फैसले से नाराज पीएओके के फैंस ने पूरे शहर में विरोध प्रदर्शन किया था. यह प्रदर्शन इतने बड़े स्तर पर था कि गिरोगोस को अपना फैसला बदलना पड़ा.









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here