बगैर मान्यता कक्षाओं के चलने पर विभाग ने दो विद्यालय को जारी किया था कारण बताओ नोटिस

जिला विद्यालय निरीक्षक के फोन में कैद हैं गहरे राज!
(सुल्तानपुर)बगैर मान्यता के कक्षाओं के चलने पर जांच में दोषी पाए जाने वालों को अभय दान दे दिया गया है! मामला लखनऊ बनारस रोड स्थित अलीगंज बाजार के निर्माण पब्लिक स्कूल तथा पं रामजस परसौनी इंटर कॉलेज में अनियमितताएं बड़े पैमाने पर पाई गई। जिसका उल्लेख जिला विद्यालय निरीक्षक ने स्वयं अपने पत्र में करते हुए तीन दिन के भीतर प्रबंध तंत्र से जवाब मांगा था। लेकिन 5 सितंबर को भेजे गए चेतावनी और कारण बताओ नोटिस में जिला विद्यालय निरीक्षक अचानक से यू टर्न ले लिया है।नोटिस जारी किए हुए तीन के बजाय करीब 15 दिन बीत गए हैं लेकिन उन्होंने अब तक अपने कहे के मुताबिक उन्होंने थाने में एफआइआर भी नहीं कराई और ना ही जुर्माना ठोंका ।जबकि पूर्व की नोटिस में बकायदा लंबा चौड़ा चेतावनी भरा पत्र जारी किया गया था ।इस पूरे मामले में जिला विद्यालय निरीक्षक की भूमिका संदेह के दायरे में है।जो योगी सरकार की भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति को धता बताता है।स्कूल के आसपास के लोगों का कहना है कि विद्यालय के प्रंबधक और सम्बंधित अधिकारियों के फोन का सीडीआर निकलवाया जाए तो बड़े खुलासे होंगे । इस बाबत ऊंघते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक सत्येंद्र सिंह ने कहा कि बहुत सारे मामले हैं इन्हें प्रकरण याद नही।दिखवाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here