सऊदी अरब ने चीन की 184 चीनी वेबसाइट को बंद कर दी है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-ANI)

सऊदी अरब ने चीन की 184 चीनी वेबसाइट को बंद कर दी है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-ANI)

Saudi Arabia shuts down 184 Chinese websites: चीन की वेबसाइट ग्राहकों को रिटर्न और एक्‍सचेंज का विकल्‍प भी नहीं दे रही थी. साथ ही ये आफ्टर सेल्स सेवाओं का विकल्‍प देने में भी नाकाम थी.

रियाद. भारत के बाद सऊदी अरब से भी चीन को बड़ा झटका लगा है. सऊदी अरब ने फर्जी प्रोडक्‍ट की मार्केटिंग को लेकर चीन की 184 वेबसाइटों को बंद कर दिया है. गोल्‍फ न्‍यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की वेबसाइट खराब और मिलावटी वस्‍तुओं को मार्केटिंग के जरिए बेच रही थी, जिससे सऊदी का बाजार प्रभावित हो रहा था.

अल जजीरा न्‍यूज पेपर की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की वेबसाइट ग्राहकों को रिटर्न और एक्‍सचेंज का विकल्‍प भी नहीं दे रही थी. साथ ही ये आफ्टर सेल्स सेवाओं का विकल्‍प देने में भी नाकाम थी. ये वेबसाइट्स गुणवत्‍ता के मामले में भी ग्राहकों को गुमराह कर रही थीं. सऊदी अरब मंत्रालय ने इन सभी वेबसाइटों को ब्‍लाक किया है, जिसमें ग्राहक सेवा के साथ-साथ स्टोर का पता और संपर्क नंबर दर्ज नहीं है.

सऊदी सरकार ने लोगों के लिए जारी किया ये संदेश
इसके साथ ही सऊदी सरकार ने आम लोगों के लिए एक संदेश जारी करते हुए कहा कि वे सोशल मीडिया पर ऐसे प्रचारित विज्ञापनों से निपटने के लिए विश्‍वसनीय स्‍टोरों से सामान की खरीदारी करें. रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने अपनी जांच में पाया कि लोग अरबी भाषा में जारी विज्ञापनों से आकर्षित हो रहे हैं.ये भी पढ़ें: क्वाड की बैठक, अमेरिका की सख्ती, साउथ चाइना सी में घिरने लगा है ड्रैगन!

ये भी पढ़ें: चीन पर नजर, पश्चिम बंगाल में भी वायुसेना बनाएगी राफेल की स्क्वॉड्रन

अधिकारियों ने जब ऐसी एक वेबसाइट को ब्‍लाक किया तो पांच अन्‍य वेबसाइट्स के माध्‍यम से फर्जी मार्केटिंग शुरू कर दी गई. सऊदी के अधिकारियों ने कहा कि 184 वेबसाइटों को अधिक से अधिक लोगों को आकर्षित करने के लिए एक ही समय में लॉन्‍च किया गया था. इसलिए इन सभी को एक साथ ब्‍लाक करना पड़ा. इन वेबसाइटों के जरिए कपड़े, जूते, बैग, परफ्यूम, सौंदर्य और इलेक्‍ट्रानिक्‍स के सामान बेचे जा रहे थे.

बता दें कि इससे पहले भारत के इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने सूचना प्रोद्योगिकी अधिनियम (IT Act) की धारा-69A के तहत कई चीनी ऐप्‍स पर प्रतिबंध लगाया था.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here