1 मई से सभी वयस्कों का वैक्सीनेशन शुरू हो गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

1 मई से सभी वयस्कों का वैक्सीनेशन शुरू हो गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

देश में जनवरी महीने से शुरू हुए वैक्सीनेशन कार्यक्रम (Covid Vaccination Drive) में एक सप्ताह के भीतर इतने ज्यादा लोगों ने कभी रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया. ये प्रदर्शित करता है कि 18 से 44 आयु समूह में लोग वैक्सीनेशन को लेकर सबसे ज्यादा व्यग्र हैं.

नई दिल्ली. देश में 18+ वालों का वैक्सीनेशन (Covid Vaccination) 1 मई से शुरू कर दिया गया है. इसके लिए 28 अप्रैल से शुरू हुई रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया (Registration Process) में अब तक 18-44 आयु समूह के साढे़ तीन करोड़ लोग नाम दर्ज करा चुके हैं. लेकिन वैक्सीनेशन महज दो प्रतिशत से भी कम लोगों का हुआ है. देश में जनवरी महीने से शुरू हुए वैक्सीनेशन कार्यक्रम में एक सप्ताह के भीतर इतने ज्यादा लोगों ने कभी रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया. ये प्रदर्शित करता है कि 18 से 44 आयु समूह में लोग वैक्सीनेशन को लेकर सबसे ज्यादा व्यग्र हैं. दरअसल देश में इस वक्त कोरोना की दूसरी खतरनाक लहर युवाओं को भी निशाना बना रही है. हालांकि राज्य और प्राइवेट अस्पतालों द्वारा सीमित संख्या में खरीदे गए स्टॉक की वजह से इस आयु समूह में अब तक करीब 6.62 लाख लोगों ही को पहला डोज दिया गया है. ये संख्या एक मई से चार मई के बीच की है. बीजेपी शासित गुजरात में 18+ वालों का सबसे ज्यादा वैक्सीनेशन, दूसरे नंबर पर राजस्थान देश में तकरीबन दर्जनभर वो राज्य और केंद्रशासित प्रदेश इस आयु समूह का वैक्सीनेशन शुरू कर चुके हैं जिन्होंने सबसे पहले सीरम इंस्टिट्यूट और भारत बायोटेक को वैक्सीन का ऑर्डर दे दिया था. बीजेपी शासित गुजरात ने इसमें लीड ली है और 1.61 लाख की संख्या के साथ करीब 25 फीसदी वैक्सीनेशन अकेले किया है. इसके बाद कांग्रेस शासित राजस्थान का नंबर है जिसने 1.26 लाख वैक्सीनेशन किया है. तीसरा नंबर महाराष्ट्र का है जहां पर 1.11 लाख लोगों वैक्सीनेशन हुआ है. गुजरात और राजस्थान में मुख्य तौर पर कोविशील्ड के जरिए ही वैक्सीनेशन किया जा रहा है. वहीं महाराष्ट्र में कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों का विकल्प दिया जा रहा है.यूपी, हरियाणा और दिल्ली के हालात हरियाणा में करीब एक लाख वैक्सीन डोज दिए गए हैं. यहां पर सिर्फ कोविशील्ड के जरिए ही वैक्सीनेशन हो रहा है. वहीं दिल्ली में करीब 80 हजार वैक्सीनेशन हुए हैं और यहां पर कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों का विकल्प मौजूद है. उत्तर प्रदेश में अब तक 51,236 लोगों को वैक्सीन का पहला डोज दिया गया है. राज्य के पास अभी सिर्फ कोवैक्सीन का स्टॉक है. यूपी ने बुधवार को घोषणा की है कि 18-44 कैटगरी में वो अगले हफ्ते से 17 और जिलों में वैक्सीनेशन की शुरुआत करेगा. साथ ही राज्य ने 4 करोड़ वैक्सीन डोज के लिए ग्लोबल टेंडर भी निकाला है. राज्य ने 1 करोड़ वैक्सीन डोज के लिए सीरम इंस्टिट्यूट और भारत बायोटेक के लिए 20 करोड़ अडवांस रिलीज किए हैं. (पूरी स्टोरी यहां क्लिक कर पढ़ी जा सकती है.)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here