चीन ने अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के दक्षिण चीन सागर में नौसेना अभ्यास को शक्ति प्रदर्शन करार दिया है.(तस्वीर-ANI)

चीन ने अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के दक्षिण चीन सागर में नौसेना अभ्यास को शक्ति प्रदर्शन करार दिया है.(तस्वीर-ANI)

US and Australia Naval Exercises: चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि दोनों देशों को ऐसी चीजें करनी चाहिए, जो क्षेत्रीय शांति और स्थिरता के लिए उचित हो न कि यहां शक्ति प्रदर्शन करना चाहिए.

बीजिंग. चीन ने शुक्रवार को अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के दक्षिण चीन सागर में हालिया नौसेना अभ्यास को ‘शक्ति प्रदर्शन’ करार दिया. चीन रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इस जलीय क्षेत्र पर अपना दावा करता रहता है. अमेरिका की नौसेना के सातवें बेड़े ने बताया कि निर्देशित मिसाइल विध्वंसक यूएनएस कर्टिस विलबर और रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी (नौसेना) के योद्धपोत एचएमएएस बलाराट ने दक्षिणी चीन सागर में एक सप्ताह का संयुक्त अभियान पूरा किया. इसमें जहाजों की फिर से आपूर्ति, हेलीकॉप्टर अभियान के प्रभाव की जांच और गोले दागने जैसे अभ्यास शामिल थे.

दैनिक सम्मेलन में चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि दोनों देशों को ‘ऐसी चीजें करनी चाहिए, जो क्षेत्रीय शांति और स्थिरता के लिए उचित हो न कि यहां शक्ति प्रदर्शन करना चाहिए.’’

अमेरिका और चीन के पड़ोसी देश पूरे दक्षिणी चीन सागर पर उसके दावे को ख़ारिज करते हैं. इस क्षेत्र से सालाना क़रीब 5 खरब अमेरिकी डॉलर का कारोबार होता है.

भारत की चीन को दो-टूक, तनाव कम करने के लिए LAC से सेनाओं की वापसी जरूरीभारत ने एक बार फिर कहा है कि वो वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति का पक्षधर है. भारत ने भारतीय-चीनी सैनिकों के बीच तनाव कम करने का मार्ग प्रशस्त करने और सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति एवं स्थिरता की पूर्ण बहाली सुनिश्चित करने के लिए पूर्वी लद्दाख में टकराव के शेष बिन्दुओं से सैनिकों की पूर्ण वापसी की प्रक्रिया को पूरा करने का बृहस्पतिवार को एक बार फिर आह्वान किया.

ये भी पढ़ें: डेल्टा वेरिएंट पर बोले विशेषज्ञ, बुरा दौर खत्म हुआ, बच्चों की सुरक्षा के लिए कही बड़ी बात

ये भी पढ़ें: UP News: पत‍ि-पत्‍नी साथ बैठकर पी रहे थे शराब, फिर फोन की घंटी बजी और सब बदल गया, जानें क्या हुआ

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक संवाददाता सम्मेलन में सैन्य और राजनयिक वार्ता के पिछले चरणों का उल्लेख करते हुए कहा कि दोनों पक्ष मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल के अनुरूप लंबित मुद्दों का त्वरित समाधान करने की आवश्यकता पर सहमत हैं.

(Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here