[ad_1]

कोरोना की उत्पत्ति की जांच के लिए WHO की टीम जाएगी चीन.

कोरोना की उत्पत्ति की जांच के लिए WHO की टीम जाएगी चीन.

COVID-19 investigators trip to China: चीन ने WHO की टीम को वुहान आकर कोरोना वायरस की उत्पत्ति से जुड़ी छानबीन करने की इजाजत दे दी है. WHO की ये टीम जनवरी 2021 में वुहान जाएगी.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 18, 2020, 7:23 AM IST

बीजिंग/लंदन. कोरोना संक्रमण ने पूरी दुनिया को अपना शिकार बनाया हुआ है, ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने ऐलान किया है कि उसकी एक टीम फिर से चीन (China) के वुहान (Wuhan) शहर में जांच (COVID-19 investigators trip) के लिए जाएगी. हालांकि WHO के इस ऐलान के बाद जानकार शक जाहिर कर रहे थे कि चीन इसकी इजाजत देगा या नहीं? हालांकि दुनिया भर में आलोचनाएं झेल रहा चीन इस जांच के लिए तैयार हो गया है. चीन ने कहा है कि जनवरी 2021 में वुहान आने वाली WHO की टीम की पूरी मदद की जाएगी.

बता दें कि चीन शुरू से ही वुहान से कोरोना की उत्पत्ति की आशंकाओं को निराधार बताता रहा है. चीन ने गुरूवार को कहा कि वह कोरोना वायरस के उत्पत्ति स्थल का पता लगाने के वैश्विक प्रयासों में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की मदद करने को तैयार है. दुनिया में महामारी फैलने को लेकर चीन इसलिए सवालों के घेरे में है क्योंकि तमाम विशेषज्ञ कोरोना वायरस का उत्पत्ति स्थल चीनी शहर वुहान को मानते हैं और उनका आरोप है कि चीन ने समय रहते इस घातक वायरस के बारे में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं कराई. वायरस के मूल का पता लगाने में मदद करने संबंधी चीन का बयान ऐसे समय आया है जब संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी के विशेषज्ञ मध्य चीनी शहर का दौरा करने की तैयारी कर रहे हैं.

चीन ने जांच के लिए सहमति दी
बीबीसी ने डब्ल्यूएचओ के हवाले से कहा कि संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी की 10 सदस्यीय टीम कोरोना वायरस के उत्पत्ति स्थल की जांच करने अगले महीने वुहान शहर का दौरा करेगी. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने मीडिया ब्रीफिंग में इस बारे में एक सवाल के जवाब में कहा कि डब्ल्यूएचओ ने भी चीन को कोरोना वायरस के उत्पत्ति स्थल का पता लगाने संबंधी वैश्विक प्रयासों की ताजा स्थिति से अवगत कराया है. इससे पहले डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता हेडिन हैल्डर्सन ने बताया कि इस अंतरराष्ट्रीय मिशन के जनवरी के पहले सप्ताह में चीन जाने की उम्मीद है. अभी तक इस घातक वायरस से दुनियाभर में 1,657,062 लोगों की मौत हो चुकी है सबकि संक्रमितों की तादात 74,613,745 पहुंच गई है, फिर भी लोगों को पुख्ता तौर पर यह नहीं पता है कि कोरोना वायरस का संक्रमण कहां से फैला है.जांच टीम पर उठे सवाल!

WHO पर ट्रंप समेत कई देशों ने चीन के प्रति नारा रुख अपनाने के आरोप लगाए हैं. बताया जा रहा है कि जो टीम वुहान का दौरा करेगी, उसका चुनाव भी चीन ही कर रहा है. इसके लिए डब्लूएचओ ने विशेषज्ञों की एक सूची चीन को सौंपी थी, जिसमें उन लोगों के नाम शामिल थे जो इस मामले की जांच करेंगे. संयुक्त राष्ट्र के इस संगठन को अब चीन की मंजूरी मिल चुकी है.

डब्ल्यूएचओ की निर्णय लेने वाली इकाई वर्ल्ड हेल्थ असेंबली (डब्ल्यूएचए) ने मई में अपने वार्षिक सम्मेलन में वायरस की उत्पत्ति की जांच करने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया था. चीन ने भी इस प्रस्ताव का समर्थन किया था. इस इकाई का अध्यक्ष इस समय भारत है. डब्ल्यूएचओ के दो सदस्यीय दल ने अगस्त में चीन का दौरा किया था और कोविड-19 के स्रोत का पता लगाने के संबंध में जमीनी कार्य पूरा किया था.



[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here