जिले के प्रभारी मंत्री शंकर गिरी ने कहा पीड़ित के साथ पूरा न्याय होगा

रिपोर्ट:-योगेश यादव


(सुल्तानपुर)जिले की पुलिस का इकबाल खूंटी पर और मानवता जेब में है!
यह खरी खरी इसलिए क्योंकि लगभग पांच दिन दिन पूर्व लंभुआ स्थित नहर से बरामद सिर कटी लाश की पहचान करने वाला भाई धंमौर और लंभुआ थाने पर महज एफआईआर दर्ज कराने के लिए खून के आंसू रो रहा है।चल कर आए सबूत को दोनों थानो की पुलिस ने मृतक के भाई को अपने अपने गेट से भगा दे रहे।भाई ने लाश उसके छोटे भाई की है।मृतक का भाई अपना दर्द बताते बताते फफक कर रोने लगा।पुलिस के इस निर्दयी व्यवहार से उसके आंसू थमने का नाम नही ले रहे थे।भाई का दावा है कि उसका छोटा भाई उस्मान(30)चन्द रोज पूर्व वह शाम को घर(धंमौर के भांटी गांव) से पैदल निकला था और आखरी बार शारदा सहायक खंड नहर के पास देखा गया था। “मेरा भाई मजदूरी करके इकलौती छोटी बेटी की परवरिश करता था, दुश्मनो ने बच्ची को यतीम कर दिया।माँ-बाप के बिना अब उस अनाथ का क्या होगा? वह कैसे जियेगी?मैं कैसे बताऊंगा की अब उसके अब्बा नही रहे” छाती फाड़कर रो रहे भाई ने बताया कि उसके भाई को पाटीदारों ने मौत के घाट उतारा है।इसके पहले धंमौर थाने पर सम्पत्ति बेचने के विवाद में वह पट्टीदारों को नामजद किया था, लेकिन पुलिस ने पैसा खाकर मामले में कई कार्रवाई नही की।आज वह सुबह से भाई की हत्या की एफआईआर दर्ज कराने के लिए दर दर बदर ठोकर खा रहा है। इस हाई प्रोफाइल मर्डर की सूचना पर जिले के प्रभारी मंत्री शंकर गिरी ने कहा है कि वह इस मामले में एसपी से बात करेंगे। मामला बेहद संगीन है।पीड़ित के साथ न्याय किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here