अमित शाह ने कहा कि बंगाल में किसी भी घुसपैठिये को घुसने नहीं देंगे. ANI

अमित शाह ने कहा कि बंगाल में किसी भी घुसपैठिये को घुसने नहीं देंगे. ANI

Bengal Assembly Election 2021: अमित शाह ने कहा कि ये सिर्फ मेनिफेस्टो नहीं है, बल्कि देश की सबसे बड़ी पार्टी का बंगाल के लिए हमारा संकल्प पत्र है.

कोलकाता. भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने रविवार को घोषणा की कि यदि पश्चिम बंगाल में उसकी सरकार बनती है तो राज्य सरकार की सभी नौकरियों में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण, पांच साल के भीतर प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को रोजगार और मंत्रिमंडल की पहली बैठक में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लागू किया जाएगा. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने पश्चिम बंगाल चुनाव के लिए बीजेपीका चुनाव घोषणा पत्र ‘सोनार बांग्ला संकल्प पत्र’ जारी करते हुए यह भी दावा कि यदि राज्य में बीजेपीकी सरकार बनती है तो मुख्यमंत्री शरणर्थी योजना की शुरुआत की जाएगी और इसके तहत प्रत्येक शरणर्थी परिवार को पांच साल तक प्रति वर्ष 10 हजार रुपये दिए जाएंगे.

शाह ने यह भी कहा कि बांग्ला को संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक भाषा बनाने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव प्रयास करेंगी. उन्होंने कहा, ‘‘हमने तय किया है कि नागरिकता संशोधन कानून को पहली ही कैबिनेट में लागू करेंगे और मुख्यमंत्री शरणार्थी योजना के तहत प्रत्येक शरणार्थी परिवार को पांच साल तक सीधे बैंक खाते में 10 हजार रुपये प्रतिवर्ष दिए जाएंगे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘राज्य सरकार की सभी नौकरियों में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा और प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ देने के साथ ही 75 लाख किसानों को जो 18 हजार रुपये तीन साल से ममता दीदी ने नहीं पहुंचाया है, वह भी सीधे किसानों को बैंक खाते में देंगे.’’

उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत हर वर्ष किसानों को भारत सरकार की ओर से जो 6000 रुपये दिये जाते हैं, उसमें राज्य सरकार का चार हजार रुपया जोड़कर दिया जाएगा. इसके अलावा मत्स्य पालकों को हर वर्ष छह हजार रुपये दिए जाएंगे. उन्होंने कहा, ‘‘राज्य में बीजेपी की सरकार बनने के बाद पांच साल में हर परिवार के एक सदस्य को रोजगार देंगे.’’ घोषणा पत्र जारी करने के अवसर पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष, राष्ट्रीय महासचिव व पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय और प्रदेशा के बीजेपीसांसद सहित अन्य वरिष्ठ नेता उपस्थित थे.

शाह ने कहा कि बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र को हमेशा एक संकल्प पत्र के रूप में स्थान दिया है. उन्होंने कहा कि यह पार्टी का संकल्प है कि कैसे पश्चिम बंगाल को ‘‘सोनार बांग्ला’’ के रूप में परिवर्तित किया जाएगा. उन्होंने कहा कि इस संकल्प पत्र के लिए बीजेपी ने विभिन्न माध्यमों से बंगाल के जन-जन तक पहुंचने का प्रयत्न किया और फिर यह संकल्प पत्र तैयार किया. उन्होंने कहा, ‘‘संकल्प पत्र हमारे सोनार बांग्ला के संकल्प पर आधारित है और यह बजट के अनुकूल हो इसका भी ध्यान रखा गया है.’’उन्होंने कहा कि बंगाल ने सदियों तक भारत की अगुवाई की है और वह चाहे आजादी का संग्राम रहा हो, चाहे राजनीति का क्षेत्र या फिर विज्ञान, शिक्षा और साहित्य का.
राज्य की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए शाह ने दावा कि पिछले 10 वर्षों में बंगाल के अंदर तृणमूल कांग्रेस के कुशासन ने एक ‘‘काले अध्याय’’ की शुरुआत की है, जिसकी वजह से चारों ओर निराशा व्याप्त है.

उन्होंने कहा, ‘‘ममता बनर्जी ने अपने वोट बैंक के लिए तुष्टीकरण को चरम सीमा पर पहुंचाया है. देश की सुरक्षा जैसे संवेदनशील विषयों को भी इन्होंने वोट बैंक की राजनीति से जोड़कर देखा. परंपरागत उत्सवों को भी वोट बैंक की राजनीति का जरिया बनाया.’’




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here