पीएम मोदी का बांग्लादेश दौरा (फ़ाइल फोटो)

पीएम मोदी का बांग्लादेश दौरा (फ़ाइल फोटो)

PM Modi Bangladesh visit: जातीय पार्टी के महासचिव जियाउद्दीन अहमद बबलू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हवाले से कहा, ” मैंने पहले ही तीस्ता नदी के जल-बंटवारे के मुद्दे पर एक समझौता करने को लेकर प्रतिबद्धता जतायी है. इस मुद्दे को लेकर तकनीकी स्तर पर चर्चा जारी है.

ढाका. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को बांग्लादेश (Bangladesh) के प्रमुख विपक्षी दल जातीय पार्टी को तीस्ता एवं अन्य संबंधित नदियों को लेकर लंबे समय से लंबित समझौते पर जल्द हस्ताक्षर के लिए हरसंभव प्रयास का आश्वासन दिया. पीएम मोदी ने सोनारगांव होटल में जातीय पार्टी के नेताओं के साथ हुई बैठक में यह आश्वासन दिया.

बैठक के दौरान जातीय पार्टी के प्रमुख संरक्षक रौशन इरशाद ने चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया. यह बैठक करीब 25 मिनट तक चली. बैठक के दौरान प्रतिनिधिमंडल ने भारत के साथ तीस्ता एवं 54 अन्य आम नदियों के जल-बंटवारा मुद्दे को सुलझाने का मामला उठाया.

पीएम मोदी से किए अनुरोध
जातीय पार्टी के महासचिव जियाउद्दीन अहमद बबलू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हवाले से कहा, ” मैंने पहले ही तीस्ता नदी के जल-बंटवारे के मुद्दे पर एक समझौता करने को लेकर प्रतिबद्धता जतायी है. इस मुद्दे को लेकर तकनीकी स्तर पर चर्चा जारी है. हमें संधि पर हस्ताक्षर करने चाहिए.” जातीय पार्टी के अध्यक्ष गुलाम मोहम्मद कदीर ने स्थानीय मीडिया से कहा कि उनकी पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बांग्लादेश के नागरिकों को भारत में पहुंचने पर वीजा प्रदान करने की शुरुआत करने का अनुरोध किया.एयरपोर्ट पर शेख हसीना ने किया स्वागत

इससे पहले ढाका एयरपोर्ट पहुंचने पर पीएम मोदी की आगवानी में प्रधानमंत्री शेख हसीना खुद मौजूद रहीं. यहां उनको ढाका में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी बांग्लादेश की आजादी के स्वर्ण जयंती कार्यक्रम में मुख्य अतिथि हैं. वह बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जन्मशती के अवसर पर आयोजित समारोह में भी हिस्सा लिया.

ये भी पढ़ें: Corona: पूरे महाराष्ट्र में लग सकता है लॉकडाउन! अजित पवार बोले- 2 अप्रैल तक देखेंगे हालात

पाकिस्तान का नाम लिए बगैर साधा निशाना
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को पाकिस्तान का नाम लिए बगैर कहा कि अमानवीय आतंकी गतिविधियों को समर्थन देने वाली ताकतें अब भी सक्रिय हैं और भारत व बांग्लादेश को इनके नापाक इरादों को विफल करने के लिए सवाधान और संगठित रहना होगा. प्रधानमंत्री ने बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान के नेतृत्व और 1971 की बांग्लादेश की आजादी की लड़ाई में भारतीय सेना के योगदान की भी सराहना की.

बांग्लादेश की आजादी की स्वर्ण जयंती और शेख मुजीबुर रहमान की जन्म शताब्दी के अवसर पर आयोजित मुख्य समरोह को मोदी संबोधित कर रहे थे.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here