26 जून 2019 को चौथी बार पुलिस के समक्ष समर्पण कर चुके जगन गुर्जर धौलपुर के डांग के भवुतीपुरा का रहने वाला है. 1994 में उसके जीजा की हत्या हो गई. जिसके बाद 1994 में उसने पत्नी और भाइयों के साथ मिलकर डकैत गैंग बनाया. चंबल में आतंक का पर्याय बने जगन गुर्जर पर राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश के विभिन्न थानों में हत्या के प्रयास, लूट, फिरौती, अपहरण, नकबजनी, डकैती से जुड़े 100 से अधिक मामले दर्ज थे. उस पर 40 हजार का ईनाम भी घोषित किया गया था. 11 साल पहले अपनी बेटी की शादी करते समय कसम खाई थी कि वह अब जुर्म की दुनिया छोड़ देगा. इससे पहले वह तीन बार आत्मसमर्पण भी कर चुका है. इससे पहले जगन ने वर्ष 2001 में तत्कालीन धौलपुर एसपी बीजू जार्ज जोसफ के सामने, 30 जनवरी 2009 को कैमरी गांव के जगन्नाथ मेले में कांग्रेस नेता सचिन पायलट के सामने और 19 अगस्त, 2018 को बयाना में तत्कालीन आईजी मालिनी अग्रवाल के समक्ष समर्पण किया था.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here