भारत और चीन ने सीमा विवाद सुलझाने के लिए शनिवार को 10वें दौर की बैठक की.

भारत और चीन ने सीमा विवाद सुलझाने के लिए शनिवार को 10वें दौर की बैठक की.

बता दें कि भारत (India) और चीन (China) के बीच ये वार्ता तब हुई है जब पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर से भारत और चीन के सैनिकों, अस्त्र-शस्त्रों और अन्य सैन्य उपकरणों को हटाने की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 21, 2021, 7:40 AM IST

नई दिल्‍ली. भारत (India) और चीन (China) के बीच पिछले कई महीनों से चल रहे तनाव को कम करने के लिए सीमा पर लगातार सैन्‍य कमांडर स्‍तर की वार्ता जारी है. दोनों देशों के बीच सीमा विवाद (Border Dispute) सुलझाने के लिए शनिवार को 10वें दौर की सैन्‍य वार्ता (Military Talks) की गई. मोल्दो बॉर्डर पर 12 घंटे तक चली भारत-चीन वार्ता के दौरान पूर्वी लद्दाख में हॉट स्प्रिंग्स, गोगरा और देपसांग जैसे क्षेत्रों से भी सैनिकों को वापस बुलाने की बात कही गई. बता दें कि दोनों देशों के बीच ये वार्ता तब हुई है जब  पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर से भारत और चीन के सैनिकों, अस्त्र-शस्त्रों और अन्य सैन्य उपकरणों को हटाने की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है.

जानकारी के मुताबिक दोनों देशों के बीच ये बैठक सुबह 10 बजे नियंत्रण रेखा पर चीन की तरफ मोल्‍दो सीमा क्षेत्र में शुरू होकर रात करीब 9:45 बजे खत्‍म हुई. भारत की ओर से सीमा पर जारी भारी तनाव को कम करने के लिए हॉट स्प्रिंग्स, गोगरा और देपसांग जैसे क्षेत्रों से भी तेज गति से सैन्य वापसी पर जोर दिया गया. बता दें कि पिछली बैठक के बाद दोनों देशों ने पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर क्षेत्रों से अपने-अपने सैनिकों को वापस बुला लिया है. सैनिकों को बॉर्डर से पीछे भेजन के साथ ही अस्त्र-शस्त्रों, अन्य सैन्य उपकरणों, बंकरों एवं अन्य निर्माण को भी हटा लिया है.




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here