गोरखपुर. यूपी के गोरखपुर में सम्राट चन्द्रगुप्त के नवरत्नों में से एक, त्रिकोणमिति के जनक, शून्य और दशमलव का महत्व बताने वाले विश्व के महान गणितज्ञ और खगोलशास्त्री आर्यभट्ट की जयंती को धूमधाम से मनाई गई। महानगर के सुभाष चन्द्र बोस नगर, सूरजकुंड स्थित सामुदायिक केंद्र पर आयोजित एक समारोह में इस महान विभूति को याद किया गया। इस अवसर पर देश के विभिन्न राज्यों से आये समाज के अतिकर्मठशील, अति वृद्ध, प्रतिभा सम्पन्न एवं आध्यात्मिक क्षेत्र के लोगों को सम्मानित किया गया। गणितज्ञ आर्यभट्ट को याद किया गया… कार्यक्रम के संयोजक डॉ. गजेन्द्र भट्ट ने कहा कि देश के प्रथम उपग्रह का नाम महान गणितज्ञ आर्यभट्ट के नाम पर ही रखा गया है। इस महान विभूति ने खगोल विज्ञान के क्षेत्र में विशेष उपलब्धि हासिल की थी। उनकी देन शून्य के बिना आधुनिक गणित और विज्ञान की कल्पना तक नहीं की जा सकती है। हर वर्ष की भांति हम उनकी जयंती मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं।  कार्यक्रम के अध्यक्ष पौहारी शरण मिश्र ने कहा कि आर्यभट्ट द्वारा रचित ग्रन्थ आर्यभट्टम विश्र्व की अमूल्य धरोहर हैं. उन्होंने गणित और खगोलशास्त्र के क्षेत्र में विश्वसनीय कार्य किए. हम सभी को ऐसे महान पुरुष के दिव्य ज्ञान से रूबरू होकर समाज को गौरवान्वित करना होगा. वरिष्ठ बाल रोग विशेषज्ञ एवं चीफ गेस्ट डॉ. ए. के. राय ने कहा कि आर्यभट्ट 550 ई. में काल के गाल में समां गए। लेकिन अपने पीछे ज्ञान का ऐसा भंडार छोड़ गए। जिसकी उपयोगिता और उपयुक्तता आज भी है। उन्होंने गणित की मूल अवधारणाओं का विकास किया। इसके साथ ही शिव कुमार शर्मा, धीरेन्द्र भट्ट, बलराम शर्मा, अविनाश भट्ट और प्रवीण भट्ट ने कहा कि सूर्य और चन्द्र ग्रहण का वैज्ञानिक कारण इसी मनीषी ने बताया था। उनका जन्म 476 ई. में गोदावरी और नर्मदा नदी के मध्य अशमाका नामक स्थान पर हुआ था. आर्यभट्ट ब्राह्मण समाज के अग्रणी थे।इस अवसर पर ब्रह्मभट्ट समाज के अतिकर्मठशील शिव कुमार शर्मा, समाज के सबसे वरिष्ठ राम नरायन शर्मा, प्रतिभा संपन्न अनिल भट्ट और आध्यात्मिक प्रतिभा संपन्न अनिल भट्ट को पुरस्कार, शाल, श्रीमदभागवत गीता आदि देकर सम्मानित किया गया। इसके पूर्व मुख्य अतिथि और सभी विशिष्ठ अतिथियों ने विद्या की देवी मां सरस्वती जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्ज्वलित किया। कार्यक्रम का संचालन नित्यानन्द मिश्रा ने किया. आगंतुकों का धन्यवाद ज्ञापन डॉ. गजेन्द्र ने किया। इस अवसर पर धर्मेन्द्र मिश्र, महेंद्र मिश्र, प्रमोद शर्मा, कुमोद शर्मा, शिव कुमार मिश्र, रमेश मिश्र, चन्द्रहास भट्ट, डॉ. दिनेश चन्द्र मिश्र, प्रभाकर शर्मा सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here