1.9 C
New York
Thursday, February 2, 2023

Buy now

spot_img

महिला थाना प्रभारी मीरा कुशवाहा ने इंस्पेक्टर नीशू को एक लाख रुपये की रिश्वत लेकर छोड़ा या वह खुद हुए फरार

दोनों दशा गम्भीर बताते हुए दुष्कर्म पीड़िता सिपाही ने विवेचक की कार्यशैली पर उठाया सवाल,कोर्ट में अर्जी देकर की दण्डात्मक कार्यवाही की मांग

उधर इंस्पेक्टर की पत्नी ने भी नीशू विवेचक मीरा कुशवाहा के कब्जे में हो या बाहर,उन्हें पेश कराने के लिए सीजेएम कोर्ट में दी है अर्जी,दो दिन बाद भी कोर्ट का आदेश नहीं आया है सामने,लगातार मामले में आ रहा नया मोड़

बीते 22 सितम्बर की देर शाम पुलिस मीडिया सेल ने नीशू तोमर को दौड़ाकर पकड़ने व अचानक महिला थाने से गायब हो जाने की खबर सुर्खियों में आने के बाद उन्हें पूंछतांछ के लिए बुलाने व उसके पश्चात वापस चले जाने एवं साक्ष्य संकलन व विधिक कार्यवाही प्रचलित होने की सूचना की गई थी जारी,पर पुलिस के पास नहीं कोई प्रमाण,भूमिका संदिग्ध

नीशू तोमर के अधिवक्ता ने अपनी 156(3) अर्जी तो दुष्कर्म पीड़िता के अधिवक्ता ने अपनी मॉनिटरिंग अर्जी में तिथि नजदीक कर सुनवाई के लिए दिया था प्रार्थना पत्र,सीजेएम रचना ने दोनों अर्जियों में लगाई 30 सितम्बर की तारीख

गजब का है पुलिस महकमा,इतने गम्भीर आरोपो से घिरी है महिला थाना प्रभारी मीरा कुशवाहा की तफ्तीश,दोनों ही पक्ष उनकी कार्यशैली से नहीं है खुश,फिर भी विवेचना दागी महिला निरीक्षक के ही सुपुर्द

उच्चाधिकारी भी हाई-प्रोफाइल मामले में सब कुछ जानकर भी बने है अनजान,मामले में दिनोदिन आता जा रहा नया मोड़,महिला सिपाही खुद को बता रही पीड़ित तो अगला पक्ष मदद की आड़ में ब्लैकमेलिंग का शिकार होने का कर रहा दावा,विभाग के कई लोगो व बाहरी लोगों का भी नाम इस मामले से जुड़ने की बनी चर्चा,पर किसका क्या रोल,जांच में आ सकता है सामने,योगी सरकार ऐसे लोगो को दे सकती है बड़ी सबक

रिपोर्ट-अंकुश यादव

सुलतानपुर। महिला सिपाही से दुष्कर्म के आरोप में एक हफ्ते पहले हिरासत में लिए गए निरीक्षक नीशू तोमर से जुड़े मामले में दिनोदिन नया मोड़ आता जा रहा है। नीशू तोमर की पत्नी कुसुम के मुताबिक बीते गुरुवार की शाम को महिला थाना प्रभारी ने एक लाख रुपये लेकर उन्हें छोड़ने का भरोसा तो दे दिया लेकिन उनके पति नीशू तोमर अभी तक घर नहीं लौटे है और न किसी तरीके से उनका पता लग पा रहा है। वह मामले में केस दर्ज कराने वाली महिला सिपाही व विवेचक मीरा कुशवाहा के बीच घनिष्ठ संबंध बताकर उन पर बड़ी साजिश रचने का एवं अन्य गम्भीर आरोप लगाते हुए सीजेएम कोर्ट में अर्जी देकर जैसे भी हो,जहां भी हो अपने पति को कोर्ट में पेश कराने की मांग कर रही है,जिस पर सीजेएम रचना का आदेश दो दिनों से सुरक्षित है। वहीं पीड़िता सिपाही भी विवेचक मीरा कुशवाहा की कार्यशैली से सन्तुष्ट नही है उन्होंने भी नीशू चाहे रुपये लेकर छोड़े गये हो या खुद फरार हुए हो,दोनों परिस्थितियों को अत्यंत गम्भीर बताते हुए मामले में रिपोर्ट तलब कर विवेचक के खिलाफ कोर्ट से कड़ी कार्यवाही की मांग की है। सीजेएम कोर्ट ने दोनों पक्ष की अर्जियों पर सुनवाई के लिए शुक्रवार का दिन तय किया है।

मालूम हो कि सुलतानपुर जिले में तैनात रहे इंस्पेक्टर नीशू तोमर के खिलाफ एक महिला सिपाही ने उनके जरिये रेप करने का संगीन आरोप लगाते हुए बीते 14 जुलाई को कोतवाली नगर में केस दर्ज करवाया। इस मामले की तफ्तीश पहले कोतवाल राम आशीष उपाध्याय को मिली,पर उन भी कई आरोप लगे,जिसके बाद उनके पास से विवेचना हट गई और मौजूदा समय में महिला थाना प्रभारी मीरा कुशवाहा प्रकरण की जांच कर रही है। इसी मामले में बीते गुरुवार को पुलिस इंस्पेक्टर नीशू तोमर कोर्ट में सरेंडर अर्जी पेश करने आये थे,इसी दौरान कोर्ट परिसर से बाहर आने पर उन्हें रेप केस में दौड़ाकर पकड़ा गया था,जिसके बाद कई तरीके की बात सामने आई। उन्हें हिरासत में लेने से जुड़े इस मामले में दिनोंदिन नया मोड़ आता दिख रहा है।

बीते गुरुवार को हिरासत में लेने के बाद महिला थाने ले जाये गए इंस्पेक्टर नीशू तोमर के अचानक थाने से गायब हो जाने और फरार हो जाने की खबर चर्चा में आई। इस बात की जानकारी लगते ही पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया। लेकिन अपने पति के खिलाफ पुलिस अभिरक्षा से फरार होने व गायब होने की खबर चर्चा में आने के बाद मौके पर पहुंची नीशू तोमर की पत्नी कुसुम ने आरोप लगाया कि महिला थाने की पुलिस ने नीशू को छोड़ने के एवज में एक लाख रुपये ले लिए,तब जाकर उन्हें कुछ देर में छोड़ देने का भरोसा दिया गया था। कुसुम ने साफ कहा है कि नीशू स्वयं पुलिस इंस्पेक्टर हैं और उन्हें कानून की जानकारी है,वो कानून क्यों तोड़ेंगे।

हालांकि विवेचक मीरा कुशवाहा की कार्यशैली पर लगातार खबरें चर्चा में आने के बाद देर शाम पुलिस महकमे के मीडिया सेल द्वारा सूचना प्रसारित कर सफाई दी गई थी कि पूंछतांछ के लिये महिला थानाध्यक्ष ने उन्हें बुलवाया था एवं पुलिस की पूंछतांछ के बाद वे वापस चले गए और मामले में साक्ष्य संकलन व विधिक कार्यवाही प्रचलित है। फिलहाल यहां तक की पुलिसिया कहानी पर जमकर खिंचाई हुई और सारी कार्यशैली सवालों के घेरे में है। मामले में उस वक्त उच्चाधिकारियों ने किसी की गलती पाये जाने पर कार्यवाही की बात कही थी,पर अभी कुछ कार्यवाही सामने नहीं आ सकी है। मामले में नीशू तोमर को हिरासत में लेने के कई साक्ष्य है और पुलिस इस बात को स्वीकार भी कर चुकी है,पर नीशू तोमर को पूछतांछ के बाद यदि छोड़ा गया है तो इसका कोई प्रमाण पुलिस के पास नहीं है,जिसके चलते विवेचक मीरा कुशवाहा ने ऐसे हाई-प्रोफाइल मामले में एक और गलती कर पुलिस विभाग के लिए नया बखेड़ा खड़ा कर दिया है।

पुलिस के पास इस मामले में शुरू से ही कोई संतोषजनक जवाब नही रहा और अब मीरा कुशवाहा की गलती की वजह से यह मामला फिर पुलिस के गले की फांस बनता जा रहा है। नीशू तोमर की पत्नी ने आरोप लगाया है कि गुरुवार की शाम पैसे लेने के बाद पुलिस ने उन्हें छोड़ देने का भरोसा तो दिया लेकिन अभी तक उनके पति लौटे नही और न उनका कोई पता लग सका है। कुसुम ने मुकदमा दर्ज कराने वाली महिला सिपाही व विवेचक मीरा कुशवाहा को एक ही जिले का होना एवं दोनों के बीच करीबी सम्बंध होने का आरोप लगाते हुए उन पर सहयोगी पुलिसकर्मियों की मदद से अपने पति को पूंछतांछ के बहाने जबरन महिला थाने ले जाने की आड़ में उनका अपहरण कर उनकी हत्या जैसी साजिश करने का अंदेशा जताया है। कुसुम ने अपने पति की कार का लॉक तोड़कर उसमे रखे नगदी,दो मोबाईल सेट व कुछ सरकारी कागजात ले लेने एवं कार को महिला थाने में गलत तरीके से निरुध्द कर लेने का भी आरोप लगाया है। कुसुम का आरोप है कि जिस-जिस तारीख की घटना बताकर उसके पति पर फर्जी केस दर्ज कराया गया है,उन-उन दिनों उसके पति ड्यूटी पर जहां-जहां रहे उसके सबूत अधिकारियों को दे दिए गए है और अभी तक उनके खिलाफ पुलिस को कोई सबूत नहीं मिले है,बावजूद इसके वर्तमान विवेचक मीरा कुशवाहा के जरिये व्यक्तिगत रुचि लेकर उनके पति को बेवजह परेशान किया जा रहा है।

बीते मंगलवार को नीशू तोमर की पत्नी कुसुम ने अपने अधिवक्ता बृजेश पांडेय के माध्यम से सीजेएम कोर्ट में अर्जी देकर विवेचक मीरा कुशवाहा को ही मुख्य जिम्मेदार ठहराकर जैसे भी हो,जहां भी हो अपने पति नीशू तोमर को कोर्ट में पेश कराने के लिए अर्जी दी है,फिलहाल दो दिनों से इस मामले में सीजेएम रचना का आदेश रिजर्व है। वहीं नीशू तोमर के अधिवक्ता ने कल सीजेएम कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर नीशू तोमर की 156(3) दण्ड प्रक्रिया संहिता के अंतर्गत पड़ी अर्जी के सम्बंध में समस्त वांछित रिपोर्ट आ जाने का तर्क रखते हुए मामले में नियत छह अक्टूबर की तिथि को खंडित कर जल्द सुनवाई की मांग की। जिस पर अदालत ने संज्ञान लेते हुए बहस के लिए 30 सितम्बर की तारीख तय की है। वहीं महिला सिपाही के जरिये भी अपने अधिवक्ता संतोष पांडेय के माध्यम से दी गई मॉनिटरिंग अर्जी में नियत सात अक्टूबर की तिथि खण्डित कर जल्दी सुनवाई करने की मांग की गई। जिस पर अदालत ने संज्ञान लेते हुए इस मामले में भी सुनवाई के लिए 30 सितम्बर की ही तारीख तय की है।

वहीं साथ मे पीड़िता सिपाही की तरफ से विवेचक मीरा कुशवाहा के खिलाफ गम्भीर आरोप लगाते हुए इंस्पेक्टर नीशू तोमर को चाहे रुपये लेकर छोड़ा गया हो या फिर दौड़ाकर हुई गिरफ्तारी के बाद पुलिस कस्टडी से वह खुद फरार हुए हो,दोनो ही दशा अत्यंत गम्भीर है। इस पर पीड़िता सिपाही ने रिपोर्ट तलब कर विवेचक के खिलाफ कोर्ट से कड़ी कार्यवाही की मांग की है। मामले में जिम्मेदार अफसर भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पा रहे है और पुलिस की कहानी भी इस प्रकरण में किसी के गले नहीं उतर रही है। मामले में एक पक्ष दुष्कर्म का शिकार होने तो दूसरा पक्ष मदद के नाम पर जुड़ जाने की वजह से ब्लैकमेलिंग का शिकार होने का दावा कर स्वयं को निर्दोष बता रहा है,दोनों पक्ष स्वयं को सही साबित करने को लेकर हर सम्भव प्रयास में जुटे हुए है। चर्चा तो यहां तक है कि इस मामले में विभाग के कई लोगो व बाहरी लोगों का भी नाम सामने आ सकता है। सूत्रों की माने तो इसीलिए पुलिस मामले की तह तक न जाकर असल सच्चाई को सामने न लाकर मात्र आरोपी इंस्पेक्टर नीशू तोमर की भूमिका पर ही दर्ज मुकदमे के आधार पर अपनी तफ़्तीश कर रही है,

फिलहाल इस मामले का अंत क्या होगा,यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा। पर मौजूदा समय मे विवेचक की कार्यशैली लगातार सवालों से घिरी होने एवं पीड़ित व मुल्जिम पक्ष में से एक भी पक्ष के जरिये उनकी तफ़्तीश से संतुष्ट न होने के बावजूद विवेचना मीरा कुशवाहा के पास टिकी होने से निष्पक्ष जांच होने की सम्भावना नहीं प्रतीत हो रही है और पुलिस की विश्वसनीयता पर सवाल खड़ा हो गया है। फिलहाल पुलिस विभाग लगातार सवाल उठने के बाद भी इस बात को कितनी गम्भीरता से लेता है,यह सामने आना अभी शेष है ?

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,695FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles