मुंबई. मुंबई में गुरुवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 8,646 नए मामले सामने आए. राज्य में पिछले 24 घंटे 43 हजार से ज्यादा नए केस सामने आए हैं. इस बीच मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कहा है कि मुंबई में लॉकडाउन (Mumbai Lockdown) लगेगा या नहीं इस पर जल्द फैसला लिया जाएगा. पेडनेकर ने सीएनएन-न्यूज18 से खास बातचीत में इस बात का इशारा किया कि मुंबई में जल्द ही लॉकडाउन लग सकता है और इस संबंध में शुक्रवार को घोषणा की जा सकती है.

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, मुंबई में पिछले 24 घंटे में महामारी से 18 और मरीजों की मौत हो गई, जबकि 5,031 मरीजों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. मुंबई में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 4,23,360 हो गए हैं और अब तक 3,55,691 लोग बीमारी से ठीक हो चुके हैं. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कोविड-19 से अब तक 11,704 मरीजों की मौत हो चुकी है और अभी 55,005 मरीज उपचाराधीन हैं.

महाराष्ट्र में कोरोना के 43183 नए मामले
महाराष्ट्र में गुरुवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 43,183 नए मामले सामने आए. यह मुंबई में आया अब तक का सबसे अधिक मामला है. इस दौरान पिछले 24 घंटों में महामारी से 249 और मरीजों की मौत हो गई, जबकि 32,641 मरीजों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. महाराष्ट्र में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 28,56,163 हो गए हैं और अब तक 24,33,368 लोग बीमारी से ठीक हो चुके हैं. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कोविड-19 से अब तक 54,898 मरीजों की मौत हो चुकी है और अभी 3,66,533 मरीज उपचाराधीन हैं.

दूसरी ओर, मुंबई में इस साल मार्च में कोविड-19 के 88,710 मामले सामने आए हैं, जो कि फरवरी में सामने आए कुल मामलों से 475 फीसदी ज्यादा है. बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने यह जानकारी दी. इस साल शहर में फरवरी के महीने में 18,359 मामले सामने आए थे, वहीं जनवरी में यह आंकड़ा 16,328 था. इसका मतलब हुआ कि मार्च में मुंबई में पिछले महीने की तुलना में 70,351 ज्यादा मामले सामने आए. वहीं, जनवरी की तुलना में 72,382 ज्यादा मामले सामने आए.

आंकड़ों के अनुसार, मार्च में संक्रमण की वजह से यहां 216 लोगों की जान गई, जबकि फरवरी में 119 लोगों की मौत हुई थी. फरवरी की तुलना में मार्च का आंकड़ा 181 फीसदी ज्यादा है. जनवरी में संक्रमण से 237 लोगों की मौत हुई थी. शहर में 31 मार्च तक संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,14,714 हो गई थी, जबकि मृतकों की संख्या 11,686 तक पहुंच गई थी.
बीएमसी के आंकड़ों के अनुसार, 31 मार्च को यहां 51,411 मरीजों का उपचार चल रहा था, जबकि फरवरी के अंत में सिर्फ 9,715 मरीजों का उपचार हो रहा था. मुंबई में संक्रमण के मामले बढ़ने के साथ ही मार्च के अंत में स्वस्थ होने की दर घटकर 85 फीसदी रह गई थी, जबकि फरवरी के अंत में यह 93 प्रतिशत था.

आंकड़ों के अनुसार संक्रमण में वृद्धि दर फरवरी के अंत में दर्ज 0.28 प्रतिशत से बढ़कर मार्च अंत तक 1.37 प्रतिशत हो गया. वहीं मामले दोगुने होने की अवधि भी 245 से घटकर 49 दिन हो गई. मुंबई में मध्य फरवरी से संक्रमण के मामलों में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की जाने लगी थी, लेकिन उस समय मृतकों की संख्या में ज्यादा वृद्धि नहीं थी. हालांकि, पिछले सप्ताह से चिंताजनक तरीके से मृतकों की संख्या भी बढ़ने लगी है, शहर में अब तक टीके की 11.52 लाख से ज्यादा खुराक लोगों को दी जा चुकी है.

(इनपुट भाषा से भी)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here