डॉ. हर्षवर्धन ने भविष्य में पेश आने वाली स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिये साझा और सामूहिक प्रयास करने की वकालत भी की (File Photo)

डॉ. हर्षवर्धन ने भविष्य में पेश आने वाली स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिये साझा और सामूहिक प्रयास करने की वकालत भी की (File Photo)

हर्षवर्धन ने मई 2020 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष के पद की यह जिम्मेदारी संभाली थी.

नई दिल्ली. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Dr Harshvardhan) ने बुधवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में अपना कार्यकाल खत्म होने के मौके पर कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) जैसे संकटों के दौरान प्रमुख दवाओं तक किफायती पहुंच सुनिश्चित करने की अपील की. साथ ही उन्होंने भविष्य में पेश आने वाली स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिये साझा और सामूहिक प्रयास करने की वकालत भी की.

हर्षवर्धन ने अपने कार्यकाल के अंतिम दिन वीडियो कांफ्रेंस के जरिये डब्ल्यूएचओ के कार्यकारी बोर्ड के 149वें सत्र को संबोधित करते हुए दुनियाभर में ’’बहादुर, उत्कृष्ट तथा सम्मानित’’ कोविड योद्धाओं की कुर्बानियों को याद रखने को कहा ताकि मानवता कायम रहे.

ये भी पढ़ें- भारत में कैसे मिलेगी फाइजर की वैक्सीन? कंपनी ने कहा, सरकार से हो रही बात

उन्होंने कहा, ’’मैं इस समय मिले-जुले भाव महसूस कर रहा हूं. एक ओर मुझे खुशी और गर्व है कि मैंने इस प्रतिष्ठित संगठन में सेवाएं दीं. दूसरी ओर मुझे दुख है कि मैं बहुत से ऐसे काम छोड़कर जा रहा हूं, जिन्हें करना था.’’मई 2020 में डॉ हर्षवर्धन को मिली थी ये जिम्मेदारी

हर्षवर्धन ने मई 2020 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) में यह जिम्मेदारी संभाली थी.

उन्होंने कहा, ’’हमें अपने संसाधनों को एकत्रित करके और एक-दूसरे के पूरक के तौर पर काम करते हुए चुनौतियों से निपटने की आवश्यकता है. हमें जहां संयुक्त कार्रवाई, अनुसंधान के एजेंडे को आकार देने और बहुमूल्य ज्ञान के आदान- प्रदान की आवश्यकता है, वहां साझेदारियां कायम करके आक्रामकता के साथ काम करना होगा.’’

(Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here