जौनपुर। दिल्ली, हरियाणा और पूर्वांचल में गांजा तस्करी से जुड़े गिरोह के मास्टरमाइंड अजय कुमार सिंह उर्फ पप्पू को राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) की टीम ने रायपुर (छतीसगढ़) से गिरफ्तार कर लिया। मुंगराबादशाहपुर थाना क्षेत्र (जौनपुर) के सतहरिया निवासी आरोपित को टीम ने बुधवार को कोर्ट में पेश करके जेल भेज दिया।
अफसरों के मुताबकि जनवरी 2021 में टीम ने दो बार में कुल 56 कुंतल गांजा बरामद कर चार तस्करों को पकड़ा था। उनके जरिये ही पप्पू के बारे में पता चला, जिसके बाद से उसकी तलाश की जा रही थी। अजय कुमार सिंह पूर्वांचल का सबसे बड़ा गांजा तस्कर है। वर्ष 2010 में सिविल लाइंस इलाहाबाद में गांजे की तस्करी में पकड़ा गया था। एक साल जेल में रहने के बाद जमानत पर बाहर आया। इसके बाद फिर से बड़े पैमाने पर तस्करी करने लगा। 2010 के बाद से वह पुलिस या किसी अन्य एजेंसी के हाथ नहीं लगा था। ओडिशा से गांजे की खेप मंगाकर मुंगराबादशाहपुर स्थित औद्योगिक क्षेत्र के एक गोदाम में रखता था। इसके बाद वहां से पूर्वांचल, यूपी के अन्य शहरों व दिल्ली, हरियाणा आदि प्रदेशों में सप्लाई करता था।

रसूख के चलते बचता रहा

अजय कुमार सिंह उर्फ पप्पू पैसे के बल पर बचता रहा। टीम ने बताया कि वह सफेदपोश बनकर खुद को सेफ जोन में ले जाना चाहता था। यही कारण है कि जौनपुर के मुंगराबादशाहपुर में विभिन्न अवसरों पर बड़े-बड़े नेताओं के साथ उसके पोस्टर-बैनर लगाये गये,जिसके जरिये उसने क्षेत्र के लोगों को बधाई संदेश दिये थे। वह चुनाव भी लडऩे की फिराक में था।

कई की हो चुकी है गिरफ्तारी

डीआरआई के अधिकारियों ने बताया कि गांजा तस्करी के जनवरी 2021 के मामले में बलिया के रामप्रवेश यादव, मिर्जापुर के विनोद कुमार पांडेय, बिहार के अजय कुमार व अनिल कश्यप आदि की गिरफ्तारी की जा चुकी है। सूत्रों की माने तो अभी कई लोग जांच एजेंसियों के निशाने पर है गांजा सरगना का काम करने वाले आधा दर्जन लोग घर से फरार भी बताए जाते हैं।

दर्जनों पुलिसकर्मी करते थे दरबारी

मुंगराबादशाहपुर जिला जौनपुर स्थानीय थाना क्षेत्र के सतहरिया चौकी के ठीक सामने लगने वाले दरबार पर कुख्यात तस्कर के यहां दर्जनों पुलिसकर्मी दरबारी किया करते थे और उसकी कृपा से बड़ी-बड़ी लग्जरी गाड़ियों में चला करते थे लोग तो यहां तो बताते है कि गांजा तस्कर की माल को पुलिस वाले गाड़ियों में बैठाकर एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाते थे पूर्व में मुंगराबादशाहपुर थाने पर तैनात रहे दो एसओ (इंस्पेक्टर) को लग्जरी गाड़िया भी भेंट की थीं और उसकी होने वाली पार्टियों में दर्जनों पुलिसकर्मियों के साथ बड़े-बड़े सफेदपोश नेता और पत्रकार भी शामिल हुआ करते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here