लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की बैठक. (फाइल फोटो)

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की बैठक. (फाइल फोटो)

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) ने कहा कि पीठासीन अधिकारीगण अपने-अपने राज्यों के विधान मण्डलों में कंट्रोल रूम स्थापित करें, जो सभी जनप्रतिनिधियों से जुड़े रहें. इसके माध्यम से प्राप्त सूचनाएं एवं जनता की कठिनाइयों को सरकार तक पहुंचाने का काम करें.

नई दिल्ली. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सोमवार को राज्य विधानमंडलों के पीठासीन अधिकारियों के अलावा राज्यों के संसदीय कार्य मंत्री, मुख्य सचेतक तथा विपक्ष के नेताओं के साथ डिजिटल माध्यम से बैठक की. सूत्रों ने बताया कि इसमें ऑक्सीजन, दवा और टीके की कमी तथा राज्यों के जीएसटी बकाये का मुद्दा उठा.

उन्होंने सुझाव दिया कि ग्राम पंचायतों एवं शहरी क्षेत्रों के स्थानीय निकायों सहित लोकतांत्रिक संस्थाओं को सामूहिक रूप से कोरोना संक्रमण को कम करने के लिए जनता के बीच में रहकर व्यापक प्रयास करने के वास्ते प्रेरित किया जाये. लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि पीठासीन अधिकारीगण अपने-अपने राज्यों के विधान मण्डलों में कंट्रोल रूम स्थापित करें, जो सभी जनप्रतिनिधियों से जुड़े रहें. इसके माध्यम से प्राप्त सूचनाएं एवं जनता की कठिनाइयों को सरकार तक पहुंचाने का काम करें.

ओम बिरला ने दिया खास निर्देश
उन्होंने कहा कि केन्द्र से संबंधित कोई विषय हो, तो वे लोकसभा कंट्रोल रूम तक पहुंचाएं. सूत्रों के अनुसार, बैठक के दौरान महाराष्ट्र के नेताओं ने ऑक्सीजन, दवा और टीके की कमी का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा कि नेताओं ने राज्यों के जीएसटी बकाये को जारी करने का मुद्दा भी उठाया.बैठक के बाद बिरला ने संवाददाताओं से कहा कि दलगत राजनीति से ऊपर उठकर सभी जन प्रतिनिधियों को लोगों के कल्याण के लिये एक टीम के रूप में काम करना चाहिए.

(Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here