पार्टी की तरफ से 30 स्टार प्रचारकों के साथ ही करीब चार सौ से ज्यादा पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की फौज चुनाव रण में उतार दी गई है.

पार्टी की तरफ से 30 स्टार प्रचारकों के साथ ही करीब चार सौ से ज्यादा पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की फौज चुनाव रण में उतार दी गई है.

Rajasthan Assembly by-election: सियासत के इस रण को जीतने के लिये कांग्रेस (Congress) ने प्रचार की मजबूत रणनीति बनाई है. कांग्रेस ने अपनी रणनीति (Strategy) को अमली जामा पहनाना शुरू कर दिया है.

जयपुर. प्रदेश के तीन विधानसभा सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव ( Rajasthan Assembly by-election) के लिए कांग्रेस ने कमर कस ली है. नामांकन वापसी के बाद चुनावी तस्वीर साफ हो चुकी है और कांग्रेस नेताओं (Congress leaders) के दौरे तय किये जा रहे हैं. सीएम अशोक गहलोत से लेकर पीसीसी चीफ और पार्टी के प्रदेश प्रभारी पूरे दमखम से पार्टी को जीत दिलाने का प्रयास करने में जुट गये हैं.

सहाड़ा, सुजानगढ़ और राजसमंद सीट पर 17 अप्रैल को वोटिंग होनी है. वोटिंग से पहले नाम वापसी के बाद चुनाव रण की तस्वीर साफ हो गई है. कांग्रेस चाहती है कि जनता प्रदेश सरकार के कामकाज पर मुहर लगाए ताकि वर्ष 2023 के विधानसभा चुनाव के पहले होने जा रहे इस सेमीफाइनल रण में जीत मिल सके. पार्टी ने इसके लिए खास रणनीति तैयार की है.

अजय माकन 6 अप्रैल को उदयपुर में आयेंगे
पार्टी की तरफ से 30 स्टार प्रचारकों के साथ ही करीब चार सौ से ज्यादा पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की फौज चुनाव रण में उतार दी गई है. रविवार से पार्टी ने धुआंधार प्रचार की शुरुआत कर दी है. पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा रविवार को सुजानगढ़ विधानसभा क्षेत्र पहुंचे. वहीं पार्टी के प्रदेश प्रभारी अजय माकन 6 अप्रैल को उदयपुर में आयेंगे. माकन यहां कैंप कर चुनाव अभियान पर नजर रखेंगे और चुनाव अभियान की डे- टू- डे मॉनिटरिंग करेंगे.माकन का मुख्य फोकस सहाड़ा और राजसमंद सीट पर

माकन का मुख्य फोकस सहाड़ा और राजसमंद सीट पर होगा. वहीं पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा का मुख्य फोकस सुजानगढ़ सीट पर रहेगा. इनके साथ पार्टी के मंत्री से लेकर विधायक और पदाधिकारी फील्ड में नजर आएंगे. इसके अलावा जल्द ही सीएम गहलोत का भी इन सीटों पर रैलियों का कार्यक्रम जारी होगा. पार्टी ने हर सीट के लिए करीब सवा सौ नेताओं की सूची प्रचार के लिए तैयार की है जो पंचायत स्तर तक मोर्चा संभालेंगे.

कांग्रेस को इन चुनावों से बड़ी उम्मीदें हैं
इन तीन सीटों पर जनता किसको आशीर्वाद देगी इसका पता तो 2 मई को ही चलेगा. लेकिन इतना जरूर है कि कांग्रेस को इन चुनावों से बड़ी उम्मीदे हैं. पार्टी का मानना है कि प्रदेश सरकार के कामकाज और किसान आंदोलन से प्रदेश में उपजे हालात के मद्देनजर इन चुनावों में जनता कांग्रेस को आशीर्वाद देगी.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here