ऑक्‍सीजन कमी से जूझ रहे हैं अस्‍पताल. (File pic)

ऑक्‍सीजन कमी से जूझ रहे हैं अस्‍पताल. (File pic)

राज्य सरकार के अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से इस संबंध में बातचीत की.

चंडीगढ़. हरियाणा (Haryana) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों में तेजी से वद्धि होने के बीच राज्य सरकार ने बुधवार को केंद्र से ऑक्सीजन आपूर्ति (Oxygen) का कोटा बढ़ाने का अनुरोध किया. इसके साथ ही उसने इन आरोपों से इनकार किया कि राज्य सरकार के एक अधिकारी ने फरीदाबाद के एक संयंत्र से दिल्ली को ऑक्सीजन की आपूर्ति रोक दी थी. राज्य सरकार के अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से इस संबंध में बातचीत की.

हरियाणा ने मांग की है कि कोरोना मामलों में तेजी से वृद्धि के मद्देनजर राज्य के लिए चिकित्सीय ऑक्सीजन का कोटा बढाकर कम से कम 120 मीट्रिक टन किया जाए जो अभी प्रति दिन 80 मीट्रिक टन तय किया गया है. अधिकारियों ने कहा कि हरियाणा में सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों में, खासकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आने वाले जिलों में ऑक्सीजन की मांग में अचानक वृद्धि हुई है.

राज्य सरकार ने बुधवार को दिल्ली के कई अस्पतालों के इन आरोपों से इनकार किया कि वह विक्रेताओं को ऑक्सीजन की आपूर्ति करने की अनुमति नहीं दे रही है. सरकार ने इसने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के इस आरोप का भी खंडन किया कि हरियाणा सरकार के एक अधिकारी ने फरीदाबाद के एक संयंत्र से दिल्ली को ऑक्सीजन की आपूर्ति रोक दी थी.

हरियाणा के मुख्य सचिव विजय वर्धन ने पीटीआई-भाषा से कहा, ” दिल्ली को कोई आपूर्ति बंद नहीं की गई है, यह सच नहीं है.फरीदाबाद की उपायुक्त गरिमा मित्तल ने भी इन आरोपों से इनकार किया कि फरीदाबाद के एक संयंत्र से दिल्ली को ऑक्सीजन की आपूर्ति रोक दी गई थी. वर्धन ने कहा कि फरीदाबाद संयंत्र से 32 अस्पतालों को आपूर्ति की जाती है, जिनमें से 25 दिल्ली में हैं.

इस बीच केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उत्तर भारत में ऐसे कोविड मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुयी है जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत है. इसी वजह ये उत्तर भारत में यह स्थिति बनी है. उन्होंने हरियाणा का जिक्र करते हुए कहा कि राज्य में ऑक्सीजन संयंत्रों की क्षमता 270 मीट्रिक टन है और केंद्र ने उनमें से दिल्ली के लिए 140 मीट्रिक टन और हरियाणा के लिए 80 मीट्रिक टन आवंटन निर्धारित किया था.

इससे पहले हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने दिन में आरोप लगाया कि अस्पताल में भर्ती कोविड-19 के मरीजों के लिये ऑक्सीजन लेकर पानीपत से फरीदाबाद जा रहे एक टैंकर को दिल्ली सरकार द्वारा ‘‘लूट लिया गया.’’ उन्होंने कहा कि सभी ऑक्सीजन टैंकरों का आवागमन अब पुलिस सुरक्षा में होगा.

विज ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी के कारण ऑक्सीजन की मांग बढ़ गई है, ऐसे में हरियाणा दूसरों को आपूर्ति तभी कर सकता है जब उसकी अपनी मांग पूरी हो जाए.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here