लखनऊ. रविवार 23 मई 2021 का दिन टीवी के इतिहास में वह पहला मौक़ा बना, जब उत्तर प्रदेश के18 मण्डलों के मंडलायुक्त टीवी पर पहली बार एक साथ नज़र आए. मौक़ा था देश के सबसे बड़े न्यूज़ चैनल नेटवर्क, NEWS 18 नेटवर्क द्वारा “कोरोना पर कमिश्नर ई कॉन्क्लेव” के विशेष आयोजन का. NEWS 18 नेटवर्क की इस अनूठी और ऐतिहासिक पहल में वर्चुअल माध्यम से जुड़कर प्रदेश के 18 मंडलायुक्तों ने महामारी पर महामंथन किया. कोविड19 से बचाव की दिशा में प्रदेश सरकार के कोविड प्रबंधन, स्वास्थ्य सेवाओं, टीकाकरण आदि की जानकारी दी, साथ ही तीसरी लहर को देखते हुए तैयारियों की समीक्षा भी की. इस अभिनव मंच के माध्यम से वायरस से बचपन बचाने का एक्शन प्लान और ब्लैक फंगस से बचाव का ब्लू प्रिंट भी साझा किया गया. देश की सबसे बड़ी आबादी को कोरोना की दूसरी लहर से बचाने के लिए योगी सरकार अभेद ढाल बनकर खड़ी हुई है. कोरोना के खिलाफ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूरी तरह से एक्शन मोड में हैं. योगी सरकार के कुशल कोविड19 प्रबंधन की ही देन है जो उत्तर प्रदेश में अब कोरोना वायरस के संक्रमण का दायरा सिमटता हुआ नज़र आ रहा है. दूसरी लहर पर लगाम कसने के साथ ही योगी सरकार ब्लैक फंगस के उपचार हेतु स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार कर रही है, तो वहीं कोरोना की तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए युद्धस्तर पर तैयारियां की जा रही हैं. ब्लैक फंगस से निपटने के लिए BHU में आईसीयू वार्ड तैयार NEWS 18 नेटवर्क के “कोरोना पर कमिश्नर ई कॉन्क्लेव” से जुड़कर वाराणसी मंडल के कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने अपने विचार व्यक्त करते हुए टेस्ट ट्रेस एंड ट्रीट फॉर्मूले को कोरोना से लड़ाई में निर्णायक बताया. शहर से लेकर गाँवों तक मे कोरोना की ताजा स्थिति की मॉनिटरिंग करके तत्काल सहायता एवं सुविधाएं उपलब्ध कराने की बात कही. ब्लैक फंगस से निपटने के लिए बी.एच.यू. में आईसीयू वार्ड बनकर तैयार है, वहीं उन्होंने रूटीन वैक्सीनेशन पर ज़ोर भी दिया.टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट फॉर्मूले से कोरोना संक्रमण पर काबू NEWS 18 नेटवर्क के “कोरोना पर कमिश्नर ई कॉन्क्लेव” से जुड़कर लखनऊ मंडल के कमिश्नर रंजन कुमार ने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर से निपटने में प्रदेश सरकार के टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट फॉर्मूले के साथ सुनियोजित टीम वर्क का बड़ा हाथ रहा. कोविड हॉस्पिटल बढ़ाए गए, ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित की, इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेन्टर से मोनिटरिंग की, 216 चिकित्सकों को टेली कंसल्टेशन से जोड़ा, ग्रामीण क्षेत्रों में निगरानी समितियों और आरआरटी टीमों द्वारा मेडिकल किट्स पहुंचाकर कोरोना संक्रमण की रफ़्तार कम की. उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए राजधानी लखनऊ के राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में 120 बेड का पीडियाट्रिक ICU (पीकू ) तैयार किया जा रहा है. गोरखपुर मंडल के कमिश्नर जयंत नार्लीकर ने बताया कि प्रवासियों की ज़्यादा से ज़्यादा टेस्टिंग, ट्रेसिंग, कोविड बेड बढ़ाकर और सर्विलांस का सख़्ती से पालन करके गोरखपुर मण्डल में कोरोना संक्रमण की गति रोकने में सफलता मिली. गांवों में निगरानी समितियों ने घर घर जाकर कोरोना के संक्रमितों और संभावितों की जांच की और निःशुल्क मेडिकल किट उपलब्ध कराई, जिससे हालात बेहतर हो रहे हैं.
गांव-गांव जाकर मेडिकल किट वितरण प्रयागराज के मंडलायुक्त संजय गोयल ने बताया कि ट्रिपल टी यानि टेस्ट, ट्रेस एंड ट्रीट पर फोकस किया गया. आरआरटी टीमों की सक्रियता बढ़ाई गई, 4090 निगरानी समितियों से ग्रामीणों क्षेत्रों का लगातार जायज़ा लिया गया, और मुस्तैद प्रयासों से प्रयागराज मंडल में कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम हुई. आज मोबाइल टेस्टिंग वैन के ज़रिए घर घर जाकर लोगों के टेस्ट किये जा रहे हैं. मेरठ मंडल के कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह ने कोरोना से लड़ाई में रेमेडिसिवर और ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता, आरआरटी टीमों द्वारा गांव-गांव जाकर मेडिकल किट वितरण को निर्णायक बताया. ब्लैक फंगस से निपटने के लिए मेरठ के मेडिकल कॉलेज में एक स्पेशल वार्ड भी बनाया गया है और नोएडा के चाइल्ड पीजीआई में पीकू बनाने की तैयारियां तेज़ी से की जा रही हैं. अयोध्या में लगाए जा रहे 40 ऑक्सीजन प्लांट NEWS 18 नेटवर्क के “कोरोना पर कमिश्नर ई कॉन्क्लेव” से जुड़कर आगरा के कमिश्नर अमित गुप्ता ने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर की रफ़्तार रोकने में टेस्टिंग, ट्रेसिंग एंड ट्रीटमेंट कारगर रहा. ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया गया. ग्रामीण क्षेत्रों में निगरानी समितियों के माध्यम से दवाएं और मेडिकल किट पहुंचाई गई. अयोध्या के मंडलायुक्त एम.पी. अग्रवाल ने बताया कि अयोध्या मंडल में कोरोना से निपटने के लिए कोविड टेस्ट की क्षमता 10 हज़ार से बढ़ाकर 25 हज़ार प्रतिदिन की गई. ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स बढ़ाये गए. अब तक 09 लाख वैक्सीन लगाई जा चुकी हैं. 40 ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं, जिनमें से ज़्यादातर शुरू भी हो गए हैं. कानपुर में 200 बेडेड पीडियाट्रिक आईसीयू तैयार NEWS 18 नेटवर्क के “कोरोना पर कमिश्नर ई कॉन्क्लेव” से जुड़कर कानपुर के कमिश्नर राजशेखर ने बताया कि ग्राउंड लेवल पर जनता से संवाद करते हुए स्वास्थ्य व्यवस्था और सेवाओं को परखा. ओवर बिलिंग हेल्पलाइन के ज़रिए ओवर बिलिंग की शिकायतों का निस्तारण किया. ज़्यादातर हॉस्पिटल को कोविड हॉस्पिटल में बदला. ऑक्सीजन सप्लाई की समीक्षा की और ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण के लिए जागरूकता अभियान लगातार जारी है. तीसरी लहर को देखते हुए कानपुर कमिश्नर राजशेखर ने बेड संख्या और टेस्टिंग दोगुनी करने के साथ मंडल स्तर पर 200 बेडेड पीडियाट्रिक आईसीयू यानि पीकू तैयार करने की बात कही. इसी तरह चित्रकूट, झांसी, अलीगढ़, मुरादाबाद, आज़मगढ़, मिर्ज़ापुर, बस्ती, बरेली, सहारनपुर और देवीपाटन मण्डलों के मंडलायुक्तों ने भी इस कार्यक्रम से जुड़कर कोविड 19 से बचाव, टीकाकरण, जागरूकता आदि के लिए प्रदेश सरकार के दिशा निर्देश से शासन प्रशासन के प्रयासों की जानकारी दी, ब्लैक फंगस से निपटने और कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए युद्ध स्तर पर की जा रही तैयारियों की ताज़ा स्थिति से अवगत कराया. मण्डलवार उत्तर प्रदेश में कोविड स्वास्थ्य सेवाओं और तैयारियों की सच्ची तस्वीर सामने लाने का जो उद्देश्य NEWS 18 लेकर चला था, “कोरोना पर कमिश्नर” ई- कॉन्क्लेव के रूप में उसका अभिनव प्रयास सफल साबित हुआ.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here