• Hindi News
  • Business
  • Baba Ramdev: Ruchi Soya Insider Trading Case Update | SEBI Ordered 7 Companies To Refund Rs 4.73 Crore

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई33 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मार्केट रेगुलेटर सेबी ने बाबा रामदेव की कंपनी रुचि सोया के शेयरों में इनसाइडर ट्रेडिंग के मामले में बड़ी कार्रवाई की है। सेबी ने 7 कंपनियों को 4.73 करोड़ रुपए लौटाने का आदेश दिया है। यह रकम 45 दिनों के अंदर लौटानी होगी। इस पर 12% की दर से ब्याज भी देना होगा।

सेबी ने शुक्रवार को 59 पेज के ऑर्डर में यह जानकारी दी है। इस ऑर्डर में अवेंटिस बायोफीड्स, नवीन्य मल्टीट्रेड, यूनि 24 टेक्नो सॉल्यूशंस, सनमेट ट्रेड, श्रेयांस क्रेडिट एंड कैपिटल, बेतुल ऑयल्स और बेतुल मिनरल्स शामिल हैं।

क्या होती है इनसाइडर ट्रेडिंग?
जब किसी कंपनी के मैनेजमेंट से जुड़ा हुआ कोई व्यक्ति कंपनी की अंदरूनी जानकारी के आधार पर शेयर खरीद या बेचकर गैरकानूनी तरीके से मुनाफा कमाता है तो वह इनसाइडर ट्रेडिंग कहा जाता है।

2019 में बनी बाबा रामदेव की कंपनी
रुचि सोया को बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद ने दिसंबर 2019 में 4,350 करोड़ रुपए में खरीदा। पतंजलि ने जबसे कंपनी को खरीदा, तबसे रुचि सोया की किस्मत बदल गई। दिवालिया होने की वजह से कंपनी के शेयरों में कारोबार बंद हो गया। हालांकि 27 जनवरी 2020 को रुचि सोया का शेयर एक बार फिर बाजार में लिस्ट हुआ।

27 करोड़ शेयर प्रमोटर्स के पास
रुचि सोया भारत में मौजूद सबसे बड़ी खाद्य तेल कंपनियों में से एक है। कंपनी की करीब 99.03% हिस्सेदारी यानी 27 करोड़ शेयर पतंजलि ग्रुप की 15 कंपनियों के पास है। सिर्फ 0.97% शेयर ही निवेशकों के पास है।

9345 करोड़ रुपए की कर्जदार हो गई थी कंपनी
साल 2012 में डेलॉय की ‘ग्लोबल पावर्स ऑफ कंज्यूमर प्रोडक्ट इंडस्ट्री 2012’ रिपोर्ट में रुचि सोया शीर्ष 250 कंज्यूमर प्रोडक्ट कंपनियों में 175वें स्थान पर थी। 2010 में कंपनी के एक शेयर की कीमत 13,000 रुपए से ज्यादा पहुंच गई थी। फिर कंपनी अपने ट्रैक से ऐसे फिसली कि कर्ज के जाल में उलझती चली गई। कंपनी पर कुल 9,345 करोड़ रुपए का कर्ज हो गया और दिवालिया हो गई। दिसंबर 2017 में नेशनल लॉ ट्रिब्यून (NCLT) ने इन-सॉल्वेंसी प्रक्रिया के तहत रुचि सोया के नीलामी का आदेश दिया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here