ऐसे में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती में इंटरमीडिएट के बाद प्रशिक्षण लेने वाले अभ्‍यर्थी भी सहायक अध्‍यापक बनने के योग्‍य हैं. (फाइल फोटो)

ऐसे में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती में इंटरमीडिएट के बाद प्रशिक्षण लेने वाले अभ्‍यर्थी भी सहायक अध्‍यापक बनने के योग्‍य हैं. (फाइल फोटो)

इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने कहा कि नियमावली में इंटरमीडिएट के साथ प्रशिक्षण सहायक अध्‍यापक बनने की अर्हता है.

प्रयागराज. बेसिक शिक्षक (Basic Teacher) बनने की योग्‍यता को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने बड़ा फैसला दिया है. हाईकोर्ट ने शुक्रवार को इस मामले पर सुनवाई करते हुए कहा कि इंटरमीडिएट के बाद प्रशिक्षण धारक भी सहायक अध्‍यापक बन सकते हैं. कोर्ट ने कहा कि नियमावली में इंटरमीडिएट के साथ प्रशिक्षण सहायक अध्‍यापक बनने की अर्हता है. ऐसे में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती में इंटरमीडिएट (Intermediate) के बाद प्रशिक्षण लेने वाले अभ्‍यर्थी भी सहायक अध्‍यापक बनने के योग्‍य हैं.

इलाहाबाद हाईकोर्ट की जस्टिस एसडी सिंह की बेंच ने यह व्‍यवस्‍था प्रिया देवी की याचिका पर दी है.  दरअसल, स्‍नातक होने के बाद प्रशिक्षण न होने के आधार पर याची को नियुक्ति नहीं दी गई थी. हाईकोर्ट ने इसे भी गलत ठहराया है. बता दें कि नियुक्ति पात्रता 45 फीसद अंक के साथ 10+2 और प्रशिक्षण है. इंटरमीडिएट के बाद एनसीटीई ने मान्‍य शिक्षा डिप्‍लोमा धारक को भर्ती में नियुक्‍त करने से इनकार करना सही नहीं है. इसके साथ ही हाईकोर्ट ने अमेठी के बीएसए को याची को नियुक्ति देने का निर्देश दिया है.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here