इटावा. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के गढ़ इटावा जिला पंचायत अध्यक्ष सीट को सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) पहली दफा अपने कब्जे में करने के लिए पूरी ताकत लगाये हुए है. भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष अजय धाकरे का दावा है कि उनकी पार्टी की पहली दफा जिला पंचायत सीट को अपने पाले में करने के लिए बड़ी ही सुनियोजित योजना पर काम कर रही है. धाकरे संगठन स्तर पर भरोसे के साथ कहते हैं कि भाजपा जिला पंचायत अध्यक्ष सीट के साथ-साथ सभी आठों ब्लाकों पर काबिज होगी.

इटावा में जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर काबिज होने के लिए भले ही सपा बीएसपी में आपसी समझौता हो गया हो, लेकिन इसके बावजूद भी सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी का दावा है कि उनकी पार्टी ना केवल जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर काबिज होगी, बल्कि आठों ब्लाकों में उनकी ही पार्टी के प्रमुख होंगे. भारतीय जनता पार्टी का दावा है कि इटावा के जिला अध्यक्ष पद पर उनकी पार्टी का ही कब्जा होगा.

इसके विपरीत समाजवादी पार्टी और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ऐसा मानकर चलती है कि भारतीय जनता पार्टी का कोई वजूद इटावा में नहीं है और जिला पंचायत अध्यक्ष तो दूर आठ ब्लाकों में भी भारतीय जनता पार्टी कहीं कब्जा नहीं कर पाएगी. 1987 से इटावा की जिला पंचायत अध्यक्ष सीट पर मुलायम परिवार और समाजवादी पार्टी का कब्जा चला आ रहा है.

UP Panchayat Chunav 2021: कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार सख्त, सभा में 5 से ज्यादा लोगों की भीड़ पर पाबंदीइस सीट पर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी कब्जा करने की अपनी प्रभावी रणनीति बनाए हुए है. भारतीय जनता पार्टी की इसी रणनीति के तहत प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव भी अपने भतीजे और निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष अभिषेक यादव को एक बार फिर से जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाने के लिए लामबंद हो गए हैं.

शिवपाल सिंह यादव ने अभिषेक को दिया है आशीर्वाद

शिवपाल सिंह यादव ने खुलेआम इस बात का ऐलान कर दिया है कि वह चाहते हैं कि अभिषेक यादव एक बार फिर से जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर काबिल हों. शिवपाल सिंह यादव के बेटे और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आदित्य यादव का कहना है कि अभिषेक यादव की बेहतर कार्यशैली को देखते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष ने यह निर्णय लिया है कि इस दफा अभिषेक यादव को ही जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर कार्य करना है और इसी दृष्टि से उन्होंने स्थानीय और इलाकाई लोगों से अपील भी की है.

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष सुनील यादव का दावा है कि भले ही भारतीय जनता पार्टी जिला पंचायत अध्यक्ष समेत इटावा के आठों ब्लाकों पर कब्जा करने की बात कहती हो, लेकिन वो इतनी मजबूत आज के समय में नहीं है कि जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर और 8 ब्लाक प्रमुख पद पर काबिज हो सके. इटावा जिला पंचायत अध्यक्ष की सीट पर कब्जे को लेकर के जहां भारतीय जनता पार्टी अपनी मजबूत रणनीति बनाए हुए, लेकिन इसके बावजूद समाजवादी पार्टी और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी संयुक्त रूप से सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को पटखनी देना चाहती है.

दो CO समेत 100 पुलिसकर्मियों की टीम माफिया मुख़्तार अंसारी को लाने पंजाब के रोपड़ जेल रवाना

विरासत बचाने के लिए इटावा में समाजवादी पार्टी और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी फिलहाल एक हो गये हैं. जिला पंचायत अध्यक्ष पद की सीट पर भतीजे अभिषेक यादव को बनाये रखने के लिए चाचा शिवपाल यादव और सपा ने रणनीति बनाई है. सपा और प्रसपा की ओर से जारी जिला पंचायत लिस्ट में सात उम्मीदवार एक ही हैं. चाचा शिवपाल सपा प्रत्याशी अभिषेक यादव को अध्यक्ष पद के लिए पहले ही आशीर्वाद दे चुके हैं.

मुलायम परिवार में भले ही चाचा-भतीजे को लेकर राजनीतिक जंग चल रही हो, लेकिन जिला पंचायत अध्यक्ष पद की विरासत की सीट को बचाने के लिए फिलहाल सपा और प्रसपा एक होकर इटावा में जिला पंचायत के चुनाव लड़ रही है. अभिषेक यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव के निर्वाचन इलाके जसवंतनगर विधानसभा से 9 जिला पंचायत सदस्यों की सीटें आती हैं और यह सीटें जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here