कृषि कानूनों को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू ने ट्वीट करके किया यह बड़ा ऐलान...

कृषि कानूनों के मुद्दे पर नवजोत सिद्धू ने ताजा ट्वीट किया है (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

Farmer’s Protest: कृषि कानूनों (Farm Laws) को लेकर केंद्र सरकार और‍ किसानों के बीच गतिरोध अभी तक दूर नहीं हो सका है. दोनों पक्षों के बीच अब तक इस मामले में सहमति के लिए 10 से अधिक राउंड की बातचीत हो चुकी है लेकिन कोई सर्वसम्‍मत हल नहीं निकल सका है. वैसे तो देश के ज्‍यादातर हिस्‍सों में केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में सुर उठे हैं लेकिन सबसे ज्‍यादा विरोध पंजाब में हो रहा है. पंजाब के कांग्रेस नेता और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने कृषि कानून के मसले पर शुक्रवार को एक वीडियो ट्वीट करके अपना पक्ष रखा है. सोशल मीडिया पर बेहद मुखर रहने वाले सिद्धू ने दोटूक अंदाज में ऐलान किया है कि पंजाब तीन काले कृषि कानूनों के क्रियान्‍वयन से इनकार करता है.

यह भी पढ़ें

‘हमें ना डरा सकते, ना ही खरीद सकते’, TIME ने आंदोलनकारी महिला किसानों को कवर पेज पर दी जगह

कई सालों तक बीजेपी से सियासत करने के बाद कांग्रेस में पहुंचे नवजोत ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मांग: पंजाब न केवल आंदोलन और सुधार करता है बल्कि तीनों काले कृषि कानूनों के क्रियान्‍यन से पूरी तरह से इनकार करता है. हमारे पास इन गैरसंवैधानिक और अवैध कानून के क्रियान्‍वयन को नकारने के पर्याप्‍त आधार हैं.’

हरियाणा में कृषि कानून का विरोध, ग्रामीण बोले- ‘वापसी’ तक, गांव में नहीं होने देंगे सरकारी काम

गौरतलब है कि इससे पहले भी सिद्धू कृषि कानूनों को लेकर मुखर अंदाज में अपनी बात करते रहे हैं. FarmersProtest और FarmLaws के हैशटैग के साथ किए गए ट्वीट में कुछ ही दिन पहले उन्‍होंने लिखा था-ये काले क़ानूनों की तहज़ीब है जनाब, ये क़ैद कर खाना देने की बात करते हैं. एक अन्‍य,ट्वीट में उन्‍होंने लिखा था-वो आएंगे नए वादे लेकर, तुम पुरानी शर्तों पर ही क़ायम रहना. एक अन्‍य ट्वीट में उन्‍होंने लिखा था, ‘जिनको सुनाना है वो तो सुनता नहीं, और ख़ामख़ा, ज़माना कान लगाये बैठा है.’केंद्र सरकार के साथ बातचीत किसी परिणाम तक नहीं पहुंचने के बाद किसानों ने अपने आंदोलन को और तेज करने का फैसला किया है.

किसान आंदोलन : गर्मी से जूझने को तैयार अन्नदाता, बनाई गई रणनीति

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here