[ad_1]

प्रयागराज6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
विभागीय जांच में महिला द्वारा सिपाही पर लगाए गए आरोप सही पाए गए। - Dainik Bhaskar

विभागीय जांच में महिला द्वारा सिपाही पर लगाए गए आरोप सही पाए गए।

महिला को वाट्सएप पर अश्लील मैसेज और कमेंट भेजना प्रयागराज में तैनात एक आशिक मिजाज सिपाही को महंगा पड़ गया। पीड़ित महिला की शिकायत जब उच्चाधिकारियों तक पहुंची तो वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक(एसएसपी), प्रयागराज ने उसे न सिर्फ गिरफ्तार करने का आदेश दिया, बल्कि निलंबित भी कर दिया। अब उसके खिलाफ सख्त विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की गई है। पीड़ित महिला ने उतरांव थानाध्यक्ष, क्षेत्राधिकारी हंडिया व एसएसपी प्रयागराज व मुख्यमंत्री पोर्टल पर सिपाही की करतूत की शिकायत की थी।

उतरांव थानाक्षेत्र का है मामला
मामला उतरांव थानाक्षेत्र का है। यहां की एक महिला ने थाने में पैरोकार के रूप में तैनात सिपाही सीताराम पांडेय के खिलाफ शिकायत की थी कि उसके वाट्सएप नंबर पर पांडेय अक्सर अश्लील मैसेज करते हैं। अश्लील वीडियो भेजते हैं।

महिला को जेल में डालने की दी थी धमकी
सिपाही से उस महिला ने एक मुकदमे के सिलसिले में एक बार फोन पर बात की थी। इसके बाद सिपाही के पास उसका नंबर आ गया और सेव कर लिया। पहले तो सिपाही ने गुड मार्निंग और गुड ईवनिंग से शुरुआत की। तबतक तो ठीक था। कुछ दिन बाद सिपाही ने थोड़ा और पर्सनल कमेंट भेजना शुरू किया। महिला ने पहले तो इस तरह के मैसेज का विरोध किया पर जब वो नहीं माना और उल्टे उसने महिला को जेल में डालने की धमकी भी दे डाली। लेकिन महिला डरी नहीं।

महिला ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर की शिकायत
कुछ दिन बाद सामान्य मैसेज घोर अश्लीलता में बदल गया। जब महिला के पास अश्लील वीडियोज आने शुरू हुए तो उसका पारा चढ़ गया। इसके बाद उसने सिपाही की शिकायत उतरांव थानाध्यक्ष, क्षेत्राधिकारी हंडिया व एसएसपी प्रयागराज व मुख्यमंत्री पोर्टल पर भी कर दी। तहरीर में उसने सारी बात लिख दी। मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत मिलने के बाद वरिष्ठ अधिकारियों के फोन घनघनाए।

आरोपी को किया गया गिरफ्तार
एसएसपी प्रयागराज सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने बताया कि उस सिपाही के खिलाफ गंभीर आरोप थे। आरोप झूठ भी हो सकते हैं लिहाजा मैंने विभागीय जांच कराई। आरोप सही पाए जाने पर उसे पहले निलंबित किया गया और शनिवार को उसकी गिरफ्तारी भी हो गई है। विभागीय जांच में महिला ने सिपाही द्वारा भेजे गए वीडियोज को जांच अधिकारियों को दिखाया तो मामला सही पाया गया। इसके बाद उतरांव थाने में सिपाही के खिलाफ शनिवार को मुकदमा लिखाया गया है। महिला और सिपाही का मोबाइल भी सुबूत के तौर पर जमा करा लिया गया है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here