Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लखनऊ3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कोरोना महामारी में वैक्सीन से जूझ रहे देश के लिए अच्छी खबर है। केंद्र सरकार ने बुलंदशहर की भारत इम्यूनोजिकल एंड बायोलॉजिकल लिमिटेड (BIBCOL) को कोरोना वैक्सीन तैयार करने की मंजूरी दे दी है। BIBCOL ने इसके लिए भारत बायोटेक से करार किया है। अक्टूबर से यहां हर महीने कोवेक्सिन की डेढ़ करोड़ डोज तैयार होने लगेगी। यह कंपनी अभी तक पोलिया की वैक्सीन बनाती थी। केंद्र सरकार ने वैक्सीन उत्पादन के लिए 30 करोड़ का बजट भी दिया गया है।

पोलिया वैक्सीन के कुल उत्पादन में 60% हिस्सा इस कंपनी का

सेंट्रल ड्रग कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन ने पूरे देश में तीन कंपनियों को Covaxin के उत्पादन की जिम्मेदारी दी है। जिसमें बुलंदशहर के चोला गांव स्थित BIBCOL एक है। यह भारत सरकार की कंपनी है। अभी तक यह कंपनी पोलियो वैक्सीन का उत्पादन करती है। देश में पोलिया की वैक्सीन के कुल उत्पादन में BIBCOL का हिस्सा 60 फीसदी यानी 150 करोड़ डोज है। उत्पादन क्षमता को देखते हुए कंपनी को Covaxin बनाने की जिम्मेदारी दी गई है।

BIBCOL कंपनी अक्टूबर में Covaxin की डोज तैयार करना शुरु करेगी। कंपनी में हलचल तेज हो गई है और दिन-रात कंपनी के कर्मचारी कोरोना वैक्सीन बनाने की तैयारियों मे जुट गए हैं। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) और वैक्सीन कंपनी भारत बायोटेक ने पूर्ण रुप से स्वदेशी कोविड-19 की Covaxin बनाया था।

अब बच्चों पर भी जल्द होगा Covaxin का परीक्षण
उधर, यदि सब कुछ ठीक रहा तो जल्द ही कनाडा और अमेरिका के बाद भारत में भी 2 से 18 साल के एज ग्रुप के लिए भी कोरोना की स्वदेशी वैक्सीन तैयार हो जाएगी। न्यूज एजेंसी के मुताबिक सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) की सब्जेक्ट एक्सपर्ट्स कमेटी (SEC) ने मंगलवार को 2 से 18 साल उम्र वालों पर भारत बायोटेक की कोवैक्सिन के सेकेंड और थर्ड ट्रायल की मंजूरी दे दी।

यह ट्रायल AIIMS दिल्ली, AIIMS पटना और मेडिट्रिना इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज नागपुर में 525 विषयों पर किया जाएगा। सब्जेक्ट एक्सपर्ट्स कमेटी ने मंगलवार को हैदराबाद में भारत बायोटेक के प्रस्ताव पर विचार किया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here