Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • हवाई यात्रियों की संख्या कम होने से एयरलाइंस के सामने वित्तीय संकट
  • कंपनी ने कहा- आर्थिक संकट से निपटने के लिए अस्थायी उपाय किए

कोरोना संक्रमण से एविएशन सेक्टर बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। अब कोरोना की दूसरी लहर का असर भी एविएशन सेक्टर पर दिखने लगा है। कोरोना के कारण लोग हवाई सफर करने से बच रहे हैं। इससे एयरलाइंस के पास कैश की कमी होने लगी है। देश की प्रमुख निजी एयरलाइंस स्पाइसजेट के पास कैश की किल्लत हो गई है। यही कारण है कि स्पाइसजेट ने अप्रैल महीने की सैलरी में 90% तक की कटौती की है।

अप्रैल में 10-50% सैलरी का भुगतान

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, स्पाइसजेट ने लोडर, ड्राइवर समेत जूनियर स्तर के कर्मचारियों को पूरी सैलरी का भुगतान किया है। लेकिन ग्राउंड स्टाफ, केबिन क्रू, कमर्शियल स्टाफ और पायलट्स को अप्रैल महीने में 10-50% सैलरी का ही भुगतान किया है। वहीं, एयरलाइन के चेयरमैन अजय सिंह ने अपनी पूरी सैलरी छोड़ दी है। कंपनी ने कर्मचारियों से कहा है कि हालात सामान्य होने पर बकाया सैलरी का भुगतान कर दिया जाएगा।

डेली पैसेंजर्स में आई बड़ी गिरावट

स्पाइजेट के वाइस प्रेसीडेंट ऑपरेशंस की ओर से शनिवार को पायलट्स को भेजे पत्र में कहा गया है कि फरवरी में घरेलू एयरलाइंस में हवाई यात्रियों की रोजाना संख्या 3 लाख के पार पहुंच गई थी। इससे लग रहा था कि एविएशन सेक्टर में रिकवरी हो रही है। लेकिन अब यात्रियों की संख्या गिरकर 1.30 लाख रोजाना पर पहुंच गई है। इसको देखते हुए स्पाइजेट परिवार के हित में एक बार फिर कड़े आर्थिक उपाय लागू किए गए हैं। ज्यादा पेय ग्रेड वालों की सैलरी 10-90% तक रोकी गई है। इस आर्थिक संकट से निपटने के लिए यह अस्थायी उपाय किए गए हैं। हालातों में सुधार के बाद रोकी गई सैलरी का भुगतान कर दिया जाएगा।

वित्तीय संकट का सामना कर रही है स्पाइसजेट

स्पाइजेट कोरोना की दूसरी लहर आने से पहले से ही वित्तीय संकट का सामना कर रही है। कंपनी एयरक्राफ्ट लीज के भुगतान में डिफॉल्ट कर चुकी है। कई वेंडर्स को भुगतान में देरी हो रही है। सैलरी में कटौती करने के एयरलाइन प्रबंधन के फैसले ने कर्मचारियों को परेशान कर दिया है। एक ग्राउंड स्टाफर का कहना है,”हम चौंक गए जब हमें पिछली शाम सैलरी स्लिप मिली। महामारी के कारण हमारी सैलरी में पिछले साल भी कटौती हुई थी। कर्मचारियों के पास मासिक किस्तें हैं और इस फैसले से वे बुरी तरह प्रभावित होंगे। बकाया सैलरी कब तक मिलेगी, इसको लेकर कोई स्पष्टता नहीं है।”

सैलरी में कटौती नहीं, केवल स्थगित की गई है: स्पाइसजेट

​​​​​​​एक पायलट की शिकायत है कि पिछले साल सैलरी में कटौती के बाद अब 3 साल के अनुभव वाला कैप्टन 1.5 से 1.8 लाख रुपए प्रति महीने कमा रहा है। पहले इतने अनुभव वाला कैप्टन 5 लाख रुपए से ज्यादा प्रति महीने कमाता था। अब एक बार फिर सैलरी में कमी हुई है। स्पाइसजेट के एक प्रवक्ता का कहना है कि कंपनी ने सैलरी में कोई कटौती नहीं की है। केवल ग्रेड के अनुसार सैलरी स्थगित की गई है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here