नई दिल्ली: अडाणी ग्रुप की कंपनियों के शेयर सोमवार को तेजी से गिरने लगे. खबर आई कि एनएसडीएल ने अडानी ग्रुप की तीन पीएफआई के खाते फ्रीज कर दिए हैं. ये तीन फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (FPI) अरबपति व्यवसायी गौतम अडाणी के सबसे बड़े मॉरीशस बेस्ड निवेशक हैं. हालांकि अब ये जानकारी सामने आ रही है कि इन तीनों एफपीआई के खातों को फ्रीज करने के बारे में भ्रामक और गलत जानकारियां फैली हैं, जिनका वास्तविकता से कोई लेना देना नहीं.

नाम, पैन, स्टेक से लेकर सारी जानकारी

अब हम आपको बता रहे हैं अडाणी ग्रुप की तीनों एफपीआई के बारे में, जिनको लेकर अडाणी ग्रुप निशाने पर आ गया है. Zee News तीनों कंपनियों की एक एक जानकारी आपके सामने रख रहा है.

1-देश: मॉरीशस बेस्ड फंड्स

2- नाम और पैन: Albula Investment Fund Ltd (PAN No. AAHCA3597Q) 

APMS Investment Fund Ltd (PAN No. AAECM5148A) 

Cresta Fund Ltd (PAN No. AADCC2634A) 

3- डीमैट अकाउंट डिटेल्स: Cresta Fund के पास अडानी ग्रुप की 6 कंपनियों के 10.76 करोड़ शेयर हैं.

Albula Investment के पास 8.59 करोड़ शेयर हैं.

APMS Investment Fund के पास 15.52 करोड़ शेयर पांच कंपनियों में हैं. (इन कंपनियों में APSEZ का नाम नहीं है.)

4- स्टेक: 31 मार्च 2020 की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक इन तीन फंड्स के पास अडाणी ग्रुप की 2.1 फीसदी से लेकर 8.91 फीसदी स्टेक है. ये तीनों फंड्स अडाणी ग्रुप के टॉप 12 निवेशकों में से हैं. 

5- होल्डिंग वैल्यू: इन तीनों एफपीआई के शेयर की सोमवार तक अडाणी ग्रुप में वैल्यू 7.78 बिलियन डॉलर थी. जिसमें सोमवार के बाद से गिरावट आई है.

अडाणी ग्रुप ने जारी किया स्टेटमेंट

अडाणी ग्रुप ने इस मामले को लेकर एक स्टेटमेंट जारी किया, जिसमें बताया कि इन एफपीआई को लेकर विवाद दशक भर पुराना है. अडाणी ग्रुप ने बताया कि तीनों फंड्स के खाते पूरी तरह से सक्रिय हैं और एनएसडीएल ने भी ई-मेल में कहा है कि उपरोक्त तीनों फंड्स एक्टिव हैं.

गौतम अडाणी ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी अडानी एंटरप्राइज के साथ अडाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन, अडाणी ग्रीन एनर्जी, अडाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड, अडाणी पॉवर और अडाणी टोटल गैस लिमिटेड ने स्टॉक एक्सचेंज को जानकारी दी है कि तीनों एफपीआई के बारे में गलत जानकारियां फैलाई जा रही हैं. इससे निवेशकों को नुकसान हो रहा है, खासकर छोटे निवेशकों को. इन कंपनियों ने Albula Investment Fund, Cresta Fund और APMS Investment Fund के बारे में फैली जानकारियों को भ्रामक करार देते हुए कहा कि इससे निवेशक समुदाय का नुकसान हो रहा है. साथ ही अडानी ग्रुप को भी नुकसान पहुंच रहा है. कंपनी ने कहा है कि एनएसडीएल ने इन तीनों एफपीआई के खाते फ्रीज नहीं किये हैं. 

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक एनएसडीएल ने भी एक ईमेल में लिखित तौर पर माना है कि इन तीनों एफपीआई के डीमैट अकाउंट ‘एक्टिव’ हैं.

 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here