• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • Etah Fake Police Encounter Case Latest News Updates । Dhaba Owner And 9 Others Frame In Fake Encounter Fir Registered Against Three Policemen In Etah

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एटा5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
ADG राजीव कृष्ण के आदेश पर देहात कोतवाली के तत्कालीन इंस्पेक्टर इंद्रेश पाल सिंह, सिपाही संतोष यादव और शैलेन्द्र यादव पर केस दर्ज किया गया। - Dainik Bhaskar

ADG राजीव कृष्ण के आदेश पर देहात कोतवाली के तत्कालीन इंस्पेक्टर इंद्रेश पाल सिंह, सिपाही संतोष यादव और शैलेन्द्र यादव पर केस दर्ज किया गया।

  • 4 फरवरी की रात एटा में देहात कोतवाली पुलिस ने 11 लोगों को मुठभेड़ में पकड़ने का दावा किया था
  • जमानत पर छूटे एक कथित आरोपी ने डीएम से की शिकायत, ASP क्राइम से कराई कई जांच तो मामला फर्जी निकला

उत्तर प्रदेश के एटा जिले में फर्जी मुठभेड़ का मामला सामने आया है। आरोप है कि कुछ पुलिसकर्मियों ने खाने का बिल मांगने पर दिव्यांग ढाबा संचालक और उसके भाई समेत स्टॉफ के 11 लोगों को मुठभेड़ में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। जमानत पर छूटने के बाद ढाबा संचालक ने मामले की शिकायत जिला अधिकारी डॉ. विभा चहल से की तो उन्होंने इसकी जांच ASP क्राइम राहुल कुमार से कराई। जांच में पुलिस का दावा झूठा निकला।

इसके बाद आगरा जोन के ADG राजीव कृष्ण के आदेश पर देहात कोतवाली के तत्कालीन इंस्पेक्टर इंद्रेश पाल सिंह, सिपाही संतोष यादव और शैलेन्द्र यादव पर केस दर्ज किया गया। आरोपी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम दबिश दे रही हैं।

कथित आरोपी ने डीएम को बताई थी ये बातें

बीते 4 फरवरी को आगरा रोड स्थित ढाबे पर कुछ पुलिसकर्मी खाना खाने पहुंचे। प्रवीण ने खाने के बिल का 450 रुपए मांगे। लेकिन पुलिसकर्मियों ने महज 100 रुपए दिए। बाकी के रुपए देने की बात को लेकर बहस हुई थी। बस यहीं से उसके ऊपर पुलिस का कहर टूट पड़ा। देहात कोतवाली से तीन गाड़ी पुलिस फोर्स बुलाकर ढाबे में उस समय मौजूद 11 लोगों को पुलिस जीप में बैठाकर कोतवाली देहात थाने ले आए। वहां लाकर एक आरोपी को 1 लाख रुपए लेकर छोड़ दिया और अन्य सभी 10 को फर्जी पुलिस मुठभेड़ में शराब, गांजा तस्करी, दफा 25, आदि में मुकदमा लिखकर जेल भेज दिया।

कथित आरोपी राहुल कुमार ने इस फर्जी मुठभेड़ की पूरी कहानी को जिलाधिकारी को बताया था। कहा कि 5 फरवरी को वह पुलिस कस्टडी में था। इस दौरान पुलिस वालों ने सुबह 10 बजे थाना परिसर में ही तमंचे से 6 बार गोली चलाई। राहुल कुमार ने तमंचों के फिंगर प्रिंट लेकर भी जांच करने की मांग की है। उसने ये भी बताया एटा के रहने वाले एक आरोपी बनाए गए युवक को पुलिस ने एक लाख रुपए लेकर थाने से छोड़ भी दिया। राहुल कुमार के साथ ही ढाबे पर खाना खा रहे उसके तीन अन्य साथियों को भी फर्जी मुठभेड़ में जेल भेज दिया गया था।

प्रवीण ने फूड एंड डेरी इंडस्ट्री में कर रखी है इंजीनियरिंग

शिकायकर्ता व ढाबा संचालक प्रवीण यादव ने 2012 में इलाहाबाद एग्रीकल्चर इंस्टीटूट (नैनी यूनिवर्सिटी से) फूड एंड डेरी इंडस्ट्री में 2 साल का इंजीनियरिंग डिप्लोमा किया है। उसके बाद इसने सहारनपुर में टाटा केमिकल लिमिटेड में क्वालिटी एग्जीक्यूटिव की नौकरी की। लेकिन इसी नौकरी के दौरान 3 मई 2017 को एक दिन आफिस जाते समय प्रवीण की बाइक में एक ट्रक ने टक्कर मार दी। जिससे वह गिर पड़ा और ट्रक का एक पहिया इनके राइट पैर के ऊपर से गुजर गया। हादसे के बाद उसकी एक टांग कट गई थी। प्रवीण के सपने बर्बाद हो गए, परंतु फिर भी उसने हिम्मत नहीं हारी और एटा में अपने परिवार के भरण पोषण के लिए अपने गांव में आगरा रोड पर 5 महीने पहले एक ढाबा खोल लिया था।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here