मैच के दौरान हिंसा करते फैंस

मैच के दौरान हिंसा करते फैंस

साल 2013 में ब्राजील (Brazil) में फुटबॉल मैचों के दौरान हिंसा से 30 लोगों की मौत हो गई थी

नई दिल्ली. ब्राजील (Brazil) एक देश है जहां फुटबॉल सबसे पसंद किया जाने वाला खेल है. पांच बार के वर्ल्ड चैंपियन इस देश में फुटबॉल को लेकर जो जूनुन है वह अकसर हिंसा का रूप ले लेता है. ब्राजील (Brazil) में हर साल फुटबॉल के कारण हिंसा में काफी लोगों की जान जाती है. साल 2014 में फीफा ने वर्ल्ड कप (Fifa World Cup) की मेजबानी ब्राजील को दी गई थी. इससे एक साल पहले साल 2013 में फुटबॉल हिंसा में 30 लोगों की जान गई थी जो कि एक  रिकॉर्ड संख्या है. 2013 में सबसे भयंकर हिंसा ब्राजील के दो घरेलू क्लब एटलिटिको (Atletico) औऱ वास्को डी गामा (Vaso De Gama) के बीच हुई थी. मैच के दौरान एक फैन की हालत इतनी गंभीर हो गई कि उसे हेलीकॉप्टर से एयरलिफ्ट कराना पड़ा. बीच मैच में शुरू हो गई फैस की लड़ाई ब्राजील के 2013 घरेलू सीजन का आखिरी मैच एटलेटिको और वास्को डा गामा के बीच खेला गया था. यह मैच फ्सर्ट डीविजन ब्राजील चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला था. मैच के दौरान दोनों टीमों के फैंस स्टेडियम में मौजूद थे और वहां पुलिस मौजूद नहीं थी. मैच 17वें मिनट में पहुंचा होगा तभी दोनों फैंस के बीच लड़ाई शुरू हो गई. फैंस एक-दूसरे पर लात-घूसों बरसा रहे थे जो चीज हाथ में आती उसी को उठाकर एक-दूसरे फेंक रहे थे. मौके पर पुलिस पहुंची तो उन्हें फैंस को कंट्रोल में लाने के लिए पैलेट गन का इस्तेमाल करना पड़ा. हजारों फैंस को रोकने में केवल 80 पुलिसकर्मी कामयाब नहीं हो पा रहे थे. इस दौरान खिलाड़ी मैदान से ही फैंस को शांत कराने की कोशिश करते रहे लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ. इस हिंसा में एक फैन को इतनी ज्यादा चोट लगी कि उसे एयरलिफ्ट कराके मैदान से बाहर ले जाना पड़ा. थोड़ी देर बाद पुलिस और मेडिकल स्टाफ स्टेडियम में पहुंचे.

Youtube Video

खिलाड़ियों ने फैंस को रोकने की कोशिश की मैच के बाद एटलेटिको (Atletico) के डिफेंजर लुइस एलर्बटो ने कहा, ‘मैं पिछले 20 साल से फुटबॉल खेल रहा हूं लेकिन मैंने ऐसा दृश्य पहली बार देखा है. स्टेडियम में कोई पुलिसवाला नहीं था ऐसे में हमने फैंस को शांत करने की कोशिश लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. जो हुआ वह काफी दर्दनाक था. हम मदद करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन इतने लोगों को रोकना आसान नहीं था. ब्राजील में काफी पुराना है फुटबॉल हिंसा का इतिहास ब्राजील में फुटबॉल हिंसा का इतिहास बहुत पुराना है.सालों से यहां फुटबॉल के कारण हुई हिंसा में फैंस की जान गई हैं. द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक 1999 से 2008 के बीच फुटबॉल हिंसा में लगभग 42 लोगों की जाने गईं हालांकि इसके बाद यह संख्या बढ़ती गई औऱ साल 2008 से 2012 के बीच इस खेल में हुई हिंसा में हर साल 29 लोगों की जान गई. हालांकि ज्यादातर मौत स्टेडियम के बाहर हुई. ब्राजील में स्टेडियम के अंदर सुरक्षा हाल के सालों में बेहतर हुई है. चहल-ऋषभ के बाद अब रोहित के निशाने पर आए रहाणे, जानिए क्यों किया ट्रोल सचिन, द्रविड़ का विकेट लेने वाला गेंदबाज, सेक्स स्कैंडल की वजह से हुआ बदनाम!









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here