Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रयागराज39 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
पूर्व बाहुबली सांसद की अर्जी को एमपी एमएलए कोर्ट ने खारिज कर दिया है। कोर्ट ने कहा है कि रिमांड की सुनवाई के लिए अभियुक्त को कोर्ट में हाजिर होना जरूरी है। - Dainik Bhaskar

पूर्व बाहुबली सांसद की अर्जी को एमपी एमएलए कोर्ट ने खारिज कर दिया है। कोर्ट ने कहा है कि रिमांड की सुनवाई के लिए अभियुक्त को कोर्ट में हाजिर होना जरूरी है।

पूर्व सांसद अतीक अहमद का रिमांड नामंजूर करने के खिलाफ सरकार द्वारा दाखिल की गई निगरानी को स्पेशल कोर्ट एमपी एमएलए ने मंजूर कर अधीनस्थ न्यायालय का आदेश निरस्त कर दिया। अतीक अहमद के खिलाफ नौ आपराधिक मामलों में विवेचक ने अधीनस्थ न्यायालय के समक्ष अर्जी देकर न्यायिक अभिरक्षा का वारंट वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बनाने की याचना की थी।

कोर्ट ने यह कह कर विवेचक की अर्जी खारिज कर दी थी कि प्रथम रिमांड के समय अभियुक्त का कोर्ट में भौतिक उपस्थिति आवश्यक है। स्पेशल कोर्ट ने अधीनस्थ न्यायालय को निर्देश दिया है कि वह विवेचक की अर्जी का निस्तारण करें।

यह आदेश स्पेशल कोर्ट के जज आलोक कुमार श्रीवास्तव ने डीजीसी गुलाब चंद्र अग्रहरी और सहायक अभियोजन अधिकारी धीरेंद्र कुमार पांडे द्वारा प्रस्तुत निगरानी याचिका पर राजेश गुप्ता एडीजीसी एवं विशेष लोक अभियोजक बिरेंद्र कुमार सिंह के तर्कों को सुनकर दिया।

क्या है मामला
प्रकरण धूमनगंज थाने का है। अतीक अहमद के खिलाफ दर्ज 9 आपराधिक मामलों में न्यायिक अभिरक्षा में लिए जाने के लिए विवेचकों द्वारा अलग-अलग अर्जी प्रस्तुत कर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हिरासत वारंट बनाए जाने की याचना की गई थी। अधीनस्थ न्यायालय ने विवेचक की अर्जी यह कह कर खारिज कर दी थी कि प्रथम रिमांड के समय अभियुक्त की कोर्ट में भौतिक उपस्थिति आवश्यक है।

विवेचक की अर्जी खारिज कर दिए जाने के बाद अभियोजन की ओर से अधीनस्थ न्यायालय के आदेश 15 मई 2020 और 3 दिसंबर 2020 के आदेश के खिलाफ जिला जज के न्यायालय में निगरानी प्रस्तुत की गई। सुनवाई स्पेशल कोर्ट एमपी एमएलए में हुई।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here