Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गोरखपुर8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

गोरखपुर यूनिवर्सिटी के एकेडमिक सेशन 2021-22 के लिए एडमिशन की प्रक्रिया 31 मई सोमवार से शुरू जाएगी। पहले इस प्रक्रिया को 28 मई से शुरू किया जाना था, लेकिन कुछ तकनीकी कारणों से इसे अब 31 मई कर दिया गया है। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राजेश सिंह की अध्यक्षता में शुक्रवार को यूनिवर्सिटी की वित्त समिति की महत्वपूर्ण मीटिंग आयोजित की गई। जिसमें प्रवेश परीक्षा सहित अन्य महत्वपूर्ण कार्यों के लिए बजट को मंजूरी दी गई। वित्त समिति ने एकेडमिक सेशन 2021-22 से शुरू होने वाले फैकल्टी ऑफ एग्रीकल्चर एंड नेचुरल साइंस के लिए 5 करोड़ के बजट को पारित किया।

ऐसे हाइटेक होगी यूनिवर्सिटी

इस बजट से नयी फैकल्टी के सुचारू संचालन के लिए यूनिवर्सिटी के दीक्षा भवन में आईसीएआर (ICAR) की गाइडलाइंस के अनुरूप पांच लेक्चर थिएटर और स्मार्ट क्लासेज, छह मॉड्यूलर लेब्रोटरी, कॉन्फ्रेंस रूम, कैंटीन, डायरेक्टर/डीन व शिक्षकों के बैठने के लिए आधुनिक चैम्बर्स इत्यादि को तैयार किया जायेगा। इसके साथ ही आधुनिक डिपार्टमेंटल लाइब्रेरी व बुक बैंक व एग्री फार्म को भी विकसित किया जाएगा।

बनेंगे छह लेक्चर थिएटर

मीटिंग में वित्त समिति ने इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी को आगामी शैक्षणिक सत्र से संचालित करने के लिए भी 5 करोड़ का बजट मंजूर किया है। इस इंस्टीट्यूट को यूनिवर्सिटी के मूल्यांकन भवन से संचालित करने के लिए एआईसीटीई (AICTE) की गाइडलाइंस के अनुरूप छह लेक्चर थिएटर, चार लैब्स, स्मार्ट क्लासेज, डायरेक्टर व डीन तथा टीचर्स केलिए आधुनिक चैम्बर्स इत्यादि को तैयार किया जायेगा। मूल्यांकन केंद्र में बीटेक (आईटी) व बीटेक (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) कोर्सेज को चलाया जाएगा।

पहले की तरह मूल्यांकन केंन्द्र से ही होगा काम

इसके साथ ही यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स तथा कंप्यूटर सेन्टर को भी अपग्रेड किया जायेगा। जहां से बीटेक (इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन) तथा बीटेक (कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग) कोर्सेज को संचालित किया जायेगा। मूल्यांकन का कार्य पूर्व की तरह मूल्यांकन केंद्र से ही किया जायेगा।

यूजीसी/सीएसआईआर के तर्ज पर छह फेलोशिप

एक अन्य महत्वपूर्ण निर्णय में वित्त समिति ने यूजीसी/सीएसआईआर के तर्ज पर छह फेलोशिप भी देने के प्रस्ताव को स्वीकार किया है। जिसमें चार पीडीएफ तथा दो पीएचडी की फेलोशिप होगी। कुलपति प्रो. सिंह के कहा कि इनमें से एक फेलोशिप जिनोमिक्स एंड बायोइन्फरमेटिक्स केंद्र के अंतर्गत कोविड-19 वायरस पर रिसर्च के लिए दिया जायेगा।

लाइब्रेरी के आधुनिकीकरण का प्रस्ताव भी मंजूर

वित्त समिति ने विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी को आधुनिक बनाने तथा ऑनलाइन करने के लाइब्रेरियन के प्रस्ताव को भी स्वीकार कर लिया है। यूनिवर्सिटी द्वारा 2021-22 में नैक मूल्यांकन में उच्च ग्रेडिंग केलिए लाइब्रेरी को आधुनिक बनाने का कार्य इसी दिशा में किया जा रहा प्रयास है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here