[ad_1]

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी

Updated Sat, 03 Oct 2020 07:27 PM IST

प्रतीकात्मक तस्वीर
– फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

वाराणसी के प्राचीन मूर्ति स्वयंभू लार्ड विश्वेश्वर से जुड़े ज्ञानवापी मामले की सुनवाई शनिवार को जिला जज के अवकाश पर रहने के कारण टल गई। सुनवाई की अगली तिथि छह अक्तूबर नियत की गई है। अदालत में सेंट्रल सुन्नी वक्फ बोर्ड और अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी की ओर से दाखिल निगरानी याचिका में इस मुद्दे पर सुनवाई होनी है कि इस मामले की सुनवाई का अधिकार बनारस की अवर न्यायालय को है या नहीं है।

इस बीच सेंट्रल सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से निगरानी याचिका विलंब से दाखिल करने के लिए माफी का अनुरोध किया गया है, जिस पर दोनों पक्षों ने बीती बहस में दलीलें पेश की थी। उधर, लार्ड विश्वेश्वर व अन्य की तरफ से दिए गए आवेदन पत्र में ज्ञानवापी परिसर के पुरातात्विक सर्वेक्षण और पूजापाठ किए जाने की अनुमति मांगी गई है।

वाराणसी के प्राचीन मूर्ति स्वयंभू लार्ड विश्वेश्वर से जुड़े ज्ञानवापी मामले की सुनवाई शनिवार को जिला जज के अवकाश पर रहने के कारण टल गई। सुनवाई की अगली तिथि छह अक्तूबर नियत की गई है। अदालत में सेंट्रल सुन्नी वक्फ बोर्ड और अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी की ओर से दाखिल निगरानी याचिका में इस मुद्दे पर सुनवाई होनी है कि इस मामले की सुनवाई का अधिकार बनारस की अवर न्यायालय को है या नहीं है।

इस बीच सेंट्रल सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से निगरानी याचिका विलंब से दाखिल करने के लिए माफी का अनुरोध किया गया है, जिस पर दोनों पक्षों ने बीती बहस में दलीलें पेश की थी। उधर, लार्ड विश्वेश्वर व अन्य की तरफ से दिए गए आवेदन पत्र में ज्ञानवापी परिसर के पुरातात्विक सर्वेक्षण और पूजापाठ किए जाने की अनुमति मांगी गई है।

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here