Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रयागराज6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
आरोपी नावेद पर 15 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। - Dainik Bhaskar

आरोपी नावेद पर 15 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं।

प्रतापगढ़ के थाना कोतवाली क्षेत्र में दिनदहाड़े ज्वैलर्स की दुकान में लूट करने वाले 50 हजार के इनामी को स्पेशल टास्क फोर्स ने बुधावार को भगवाचुंगी के पास से गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से अवैध असलहा, दो जिंदा कारतूस भी बरामद किए गए हैं। एसटीएफ की गिरफ्त में आया नावेद अख्तर पुत्र वशीर रानीगंज थाना के गुलरा गांव का रहने वाला है।

लूट के बाद भाग गया था मुंबई-सूरत
लूट की वारदात के बाद उसने मुंबई और सूरत में अपना ठिकाना बना लिया था। वह हत्या के प्रयास जैसी कई गंभीर धाराओं में 15 मुकदमों का वांछित भी था। एसटीएफ को काफी दिनों से फरार चले रहे ईनामी अपराधियों की तलाश थी। फील्ड इकाई प्रयागराज को सूचना मिली कि 50 हजार के इनामी नावेद ने प्रतापगढ़ में रहना शुरू कर दिया है।

उसने पुलिस से बचने के लिए अपना ठिकाना भगवा चुंगी के पास बना रखा है। इस सूचना के आधार पर एसटीएफ ने उसकी घेराबंदी कर दी। उसे जब एसटीएफ के आने की सूचना मिली तो वह भगवा चुंगी से प्रतापगढ़-प्रयागराज मुख्य मार्ग की तरफ निकल पड़ा। एसटीएफ ने उसका पीछा किया और मुख्य मार्ग पर धर दबोचा।

सूरत में बेच दी थी लूट की ज्वैलरी
पुलिस उपाधीक्षक एसटीएफ नावेंदु कुमार ने बताया कि लूट की घटना को अंजाम देने के बाद नावेद पुलिस से बचने के लिए मुंबई भाग गया था। लूटे हुए माल के जेवर उसने लूट में शामिल इरशाद, शुभम, शेबू, शाहिद बाबा के साथ सूरत में बेच दिया था।

इसके बाद पैसों का आपस में बंटवारा कर लिया था। पैसों के बंटवारे के बाद बाकी साथी कहीं चले गए। वह वापी गुजरात में कमरा लेकर रहने लगा। पुलिस जब उसका पीछा करने लगी तो वह ठिकाना बदलने लगा। बाकी साथी धीरे-धीरे पकड़े गए केवल नावेद और शाहिद बाबा पुलिस के हाथ नहीं आए।

फरवरी में पता चला कि वो इनामी है
नावेद ने बताया कि उसे फरवरी में ही मालूम चल गया था कि उसके ऊपर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित हो गया है। इसके बाद वह गुजरात, मुंबई, दिल्ली, बिहार, आसाम व पश्चिम बंगाल में फरारी काट रहा था। जब उसकी जेब में पैसे खत्म हो गए तो वह प्रतापगढ़ अपने घर वापस आया। इसकी सूचना जब एसटीएफ को मिली तो उसे पकड़ लिया गया।

लूट की कई वारदातों को दे चुका है अंजाम

पूछताछ में उसने बताया कि उसके ऊपर लूट सहित कई अन्य मुकदमे प्रतापगढ़, रानीगंज, मान्धाता, जेठवारा, लालगंज, मऊआइमा, थरवई थाने में दर्ज हैं। नावेद ने बताया कि 2015 में उसने ही मऊआइमा में व्यापारी से आठ किलो चांदी की लूट की थी।

इसके बाद उसपर मुकदमा दर्ज किया गया था। पुलिस उसकी तभी से तलाश कर रही थी। 2018 में रानीगंज पुलिस और उसके बीच मुठभेड़ भी हुई थी, जिसमें नावेद को गाेली भी लगी थी, जिसमें वह घायल हो गया था।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here