नेपाल में मई के मध्य में संक्रमण के दैनिक रूप से लगभग दस हजार मामले सामने आ रहे थे और सैकड़ों लोगों की मौत हो रही थी.

नेपाल में मई के मध्य में संक्रमण के दैनिक रूप से लगभग दस हजार मामले सामने आ रहे थे और सैकड़ों लोगों की मौत हो रही थी.

Nepal Vaccination Drive: नेपाल में जनवरी में टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था, लेकिन भारत में महामारी की दूसरी लहर आने के बाद नयी दिल्ली द्वारा टीकों की आपूर्ति रोके जाने के बाद नेपाल को अपना टीकाकरण कार्यक्रम निलंबित करना पड़ा है.

काठमांडू. नेपाल के स्वास्थ्य मंत्री शेर बहादुर तमांग ने कहा कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में काफी कमी आई है, लेकिन उसे कोविड रोधी टीकों की अत्यधिक आवश्यकता है. तमांग ने एक साक्षात्कार में कहा कि देश में संक्रमण के मामलों में काफी आई है, लेकिन अभी इतनी कमी नहीं आई है कि खतरे से मुक्त हुआ जा सके. ‘‘हम उस स्तर तक पहुंचने का भरसक प्रयास कर रहे हैं.’’

भारत में महामारी की दूसरी लहर आने के पश्चात नेपाल में संक्रमण और मौत के मामलों में वृद्धि के बाद अप्रैल से लॉकडाउन है. नेपाल में मई के मध्य में संक्रमण के दैनिक रूप से लगभग दस हजार मामले सामने आ रहे थे और सैकड़ों लोगों की मौत हो रही थी.

लॉकडाउन के बाद स्थिति में हुआ सुधार

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, सप्ताहों के लॉकडाउन के बाद स्थिति में सुधार हुआ है. देश में बृहस्पतिवार को संक्रमण के 2,607 नए मामले सामने आए और 39 लोगों की मौत हो गई.नेपाल में जनवरी में टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था, लेकिन भारत में महामारी की दूसरी लहर आने के बाद नयी दिल्ली द्वारा टीकों की आपूर्ति रोके जाने के बाद नेपाल को अपना टीकाकरण कार्यक्रम निलंबित करना पड़ा है.

ये भी पढ़ेंः- IMA Protest: डॉक्टरों पर हमलों के खिलाफ 18 जून को देशव्यापी प्रदर्शन करेगा IMA

नेपाल को कोविड रोधी टीकों की अत्यधिक आवश्यकता : स्वास्थ्य मंत्री

तमांग ने कहा, ‘‘हमारे लिए मुख्य मुद्दा टीकों का है, और जब तक हमें टीके नहीं मिलते, हम यह नहीं कह सकते कि हर कोई सुरक्षित है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम टीका विनिर्माता सभी देशों से अपील करते रहे हैं कि कृपया हमें टीके उपलब्ध कराएं.’’





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here