“अगर आपने बाबा रामदेव से योग सीख लिया, तो आप भी पेट्रोल की कीमतें 06 रुपये लीटर देख सकते हैं.” केरल के तिरुवनंतपुरम के लोकसभा सांसद थरूर ने लिखा.

आइल कंपनियों द्वारा लगातार आठवें दिन दरों में वृद्धि के साथ आज चार महानगरों में पेट्रोल और डीजल की कीमतों ने अपने नए उच्च स्तर को छू लिया है. आज करीब 30 पैसे की वृद्धि हुई है.

अब मेट्रो शहरों में पेट्रोल की कीमत 89.29 (दिल्ली) और 95.75 (मुंबई) के बीच है. डीजल की कीमत 79.70 (दिल्ली) और 86.72 (मुंबई) के बीच है. मध्यप्रदेश के भोपाल में प्रीमियम पेट्रोल 14 फरवरी को 100 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया.

लगभग एक महीने तक अपरिवर्तित रहने के बाद ईंधन की कीमतों में 6 जनवरी से पूरे भारत में वृद्धि दर्ज की गई है. वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि के बीच यह दरें बढ़ी हैं जबकि देश में कोरोना टीकाकरण अभियान चल रहा है और बाजार और कारोबार कोरोना महामारी से पूर्व की सामान्य स्थिति में पहुंचने के उपायों की उम्मीद कर रहे हैं.

केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पिछले हफ्ते कहा था कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें अंतरराष्ट्रीय प्राइज मैकेनिज्म से नियंत्रित होती हैं. उन्होंने बताया कि “लगभग 250 (पिछले 300 दिनों में से) दिनों से केंद्र ने कीमतों में वृद्धि या कमी नहीं की थी.”

सोमवार को ओडिशा में कांग्रेस के एक नेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह कपड़े पहने और एक बैलगाड़ी बैठकर भुवनेश्वर पहुंचे. उन्होंने पूछा कि क्या पेट्रोल की कीमतें कम हुई हैं.

पिछले हफ्ते समाजवादी पार्टी के सांसद विशम्भर प्रसाद निषाद ने राज्यसभा में चुटकी ली थी. उन्होंने कहा था कि “माता सीता की भूमि नेपाल और रावण की भूमि लंका में पेट्रोल सस्ता है लेकिन राम की भूमि में नहीं.”

मूल्य वृद्धि को लेकर विरोध का सामना करते हुए दो राज्यों असम और मेघालय ने कीमतों में कटौती की है. असम, जहां बीजेपी कुछ हफ्तों में फिर से चुनाव में उतरने वाली है, में पिछले सप्ताह कीमतों में 5 रुपये प्रति लीटर की कटौती की गई. मेघालय में पहले पहले 2 रुपये प्रति लीटर की कीमतों में कटौती की गई थी अब वहां मंगलवार की रात में 5.4 रुपये प्रति लीटर की कटौती की घोषणा की गई. स्थानीय बिक्री कर या वैट के आधार पर ईंधन की कीमतें राज्य में अलग-अलग होती हैं.

Newsbeep

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के साथ गैर सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडरों की दरों में भी वृद्धि हुई है. इस पर  कांग्रेस ने सोमवार को नरेंद्र मोदी सरकार को निर्मम और अनैतिक सरकार कहा. केंद्र द्वारा एलपीजी सिलेंडर की कीमत बढ़ाने के बाद अब दिल्ली में गैर-सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत 769 रुपये हो गई है.

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर “जनता से लूटपाट” का आरोप लगाते हुए कीमतों में बढ़ोतरी की आलोचना की. उन्होंने ट्वीट किया: “जनता से लूट, सिर्फ ‘दो’ का विकास”, और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अभियान ‘सबका साथ, सबका विकास’ में शामिल है – यह समावेशी विकास के लिए उनका मंत्र है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here