सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ओटीटी प्लेटफार्म पर स्क्रीनिंग की जरूरत है.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ओटीटी प्लेटफार्म पर स्क्रीनिंग की जरूरत है.

सु्प्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आज एक याचिका की सुनवाई के दौरान कहा कि अमेजन प्राइम, नेटफ्ल‍िक्‍स जैसे ऑनलाइन प्‍लेटफॉर्म (OTT Platforms) पर र‍िलीज होने वाली फिल्‍मों और शोज की पहले स्‍क्रीनिंग होनी चाहिए… कुछ फिल्‍मों में पोर्नोग्राफी (pornograph) द‍िखाई जा रही है.’

सु्प्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आज एक याचिका की सुनवाई के दौरान कहा कि अमेजन प्राइम, नेटफ्ल‍िक्‍स जैसे ऑनलाइन प्‍लेटफॉर्म (OTT Platforms) पर र‍िलीज होने वाली फिल्‍मों और शोज की पहले स्‍क्रीनिंग होनी चाहिए… कुछ फिल्‍मों में पोर्नोग्राफी (pornograph) द‍िखाई जा रही है.’ सुप्रीम कोर्ट में आज ‘तांडव’ वेब सीरीज के मामले में अमेजॉन वीडियो कि हैड अपर्णा पुरोहित की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान ये बातें कही.

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसल के बाद ऑवर द टॉप (OTT) प्‍लेटफॉर्म्‍स को अपनी कंटेंट स्‍ट्रैटजी में बदलाव करने पड़ सकते हैं. वहीं दूसरी तरफ ऑन लाइन र‍िलीज हो रही फिल्‍मों, शोज पर चल रही सेंसरश‍िप की बात को भी गति म‍िलेगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ओटीटी प्लेटफार्म पर स्क्रीनिंग की जरूरत है. कभी कभी इस प्लेटफॉर्म पर पोर्नोग्राफी भी दिखाई जाती है.

Tandav

वेब सीरीज ‘तांडव’ (Tandav) का एक सीन.

सैफ अली खान, सुनील ग्रोवर और ड‍िंपल कपाड़‍िया स्‍टारर वेब सीरीज ‘तांडव’ में धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में अपर्णा पुरोहित समेत कई कलाकारों और निर्देशक के खिलाफ मुकदमे दर्ज हुए हैं. इससे पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट अपर्णा पुरोहित की याचिका खारिज कर चुका है. इसके बाद अपर्णा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है.आज इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में सिर्फ दो मिनट की सुनवाई हुई. सुनवाई की शुरुआत में ही जस्टिस अशोक भूषण ने कहा की ओटीटी प्लेटफॉर्म पर दिखाए जाने वाली चीजों की स्क्रीनिंग होनी चाहिए. उनके कहने का मतलब ये था की जिस तरह फिल्मों को सेंसर बोर्ड पास करती है. उसी तरह ओटीटी प्रोग्राम को भी देखने के बाद आम जनता को दिखाने के लिए स्वीकृति मिलनी चाहिए.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here