न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी
Published by: हरि User
Updated Tue, 15 Jun 2021 12:51 AM IST

सार

शूटरों की तलाश में ताबड़तोड़ पूर्वांचल सहित बिहार में छापा। गिरोह के सरगना आजमगढ़ निवासी आलोक राय के पकड़े जाने की चर्चाएं सोमवार शाम पुलिस महकमे में होती रही।

बैंक मैनेजर। फाइल फोटो
– फोटो : सोशल मीडिया

ख़बर सुनें

वाराणसी में पंजाब नेशनल बैंक की करखियांव शाखा प्रबंधक हत्याकांड के सरगना तक पुलिस पहुंच गई है। तीन जिलों की लगी क्राइम ब्रांच की टीम ने आरोपी को ढूंढ निकाला। हालांकि पुलिस अफसर इस मामले पर अभी कुछ बोल नहीं रहे हैं। गिरोह के सरगना आजमगढ़ निवासी आलोक राय के पकड़े जाने की चर्चाएं सोमवार शाम पुलिस महकमे में होती रही। हालांकि इसकी पुष्टि करने से हर कोई बच रहा। उधर, बैंक प्रबंधक फूलचंद्र राम को गोली मारने वाले शूटरों की तलाश में पुलिस की आठ टीमें पूर्वांचल और बिहार के विभिन्न जिलों में छापा मार रही हैं। 

बैंक प्रबंधक फूलचंद राम की हत्या व लूट में शामिल छह आरोपियों की गिरफ्तारी रविवार को हुई थी, जबकि गिरोह का मास्टरमाइंड आजमगढ़ निवासी आलोक राय और उसके साथ के चार शूटर फरार हैं। वहीं बीस लाख कैश लेकर फरार आरोपियों के गिरफ्तारी नहीं होने से बैंक अधिकारियों की भी धुकधुकी बढ़ी हुई है, क्योंकि बैंक प्रबंधक फूलचंद्र राम बैंक का ही पैसा लेकर निकले हुए थे। ऐसी स्थिति में बैंक अधिकारियों को अपने पास से पैसे भरने पड़ सकते हैं। ऐसी बातों की चर्चाएं पंजाब नेशनल बैंक की मंडलीय कार्यालय सहित अन्य बैंकों में भी हो रही है। इस संबध में एसपी ग्रामीण अमित वर्मा ने बताया कि फरार पांच आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें दबिश दे रही हैं।

जौनपुर के कुसिया गांव निवासी बैंक प्रबंधक फूलचंद्र राम के बारे में बताया गया कि वह अपना प्रभाव दिखाकर बैंक में हर तरह के काम कराते थे। करखियांव ब्रांच में पहले चपरासी के पद पर रहे राहुल कुमार को बैंक प्रबंधक ने प्रमोशन की परीक्षा दिलाकर क्लर्क सिंगल विंडो आपरेटर बनवाया था। हालांकि कैशियर राहुल कुमार का आरोप था कि बैंक प्रबंधक ने धमकी देकर जबरन पैसा निकलवाया था। इस बारे में पीएनबी के सर्किल हेड राजेश कुमार ने बताया कि परीक्षा देकर कोई भी प्रमोशन पा सकता है।

विस्तार

वाराणसी में पंजाब नेशनल बैंक की करखियांव शाखा प्रबंधक हत्याकांड के सरगना तक पुलिस पहुंच गई है। तीन जिलों की लगी क्राइम ब्रांच की टीम ने आरोपी को ढूंढ निकाला। हालांकि पुलिस अफसर इस मामले पर अभी कुछ बोल नहीं रहे हैं। गिरोह के सरगना आजमगढ़ निवासी आलोक राय के पकड़े जाने की चर्चाएं सोमवार शाम पुलिस महकमे में होती रही। हालांकि इसकी पुष्टि करने से हर कोई बच रहा। उधर, बैंक प्रबंधक फूलचंद्र राम को गोली मारने वाले शूटरों की तलाश में पुलिस की आठ टीमें पूर्वांचल और बिहार के विभिन्न जिलों में छापा मार रही हैं। 

बैंक प्रबंधक फूलचंद राम की हत्या व लूट में शामिल छह आरोपियों की गिरफ्तारी रविवार को हुई थी, जबकि गिरोह का मास्टरमाइंड आजमगढ़ निवासी आलोक राय और उसके साथ के चार शूटर फरार हैं। वहीं बीस लाख कैश लेकर फरार आरोपियों के गिरफ्तारी नहीं होने से बैंक अधिकारियों की भी धुकधुकी बढ़ी हुई है, क्योंकि बैंक प्रबंधक फूलचंद्र राम बैंक का ही पैसा लेकर निकले हुए थे। ऐसी स्थिति में बैंक अधिकारियों को अपने पास से पैसे भरने पड़ सकते हैं। ऐसी बातों की चर्चाएं पंजाब नेशनल बैंक की मंडलीय कार्यालय सहित अन्य बैंकों में भी हो रही है। इस संबध में एसपी ग्रामीण अमित वर्मा ने बताया कि फरार पांच आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें दबिश दे रही हैं।


आगे पढ़ें

चपरासी से बना था कैशियर, प्रभाव में कराते थे कई काम



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here