RBI KYC Update: कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांता दास ने आम लोगों को राहत पहुंचाने के लिए कुछ बड़े ऐलान किए हैं. इन्हीं में से एक ऐलान है KYC (Know Your Customer) को लेकर. 

KYC नहीं तो 31 दिसंबर तक खाता फ्रीज नहीं  

रिजर्व बैंक ने ऐलान किया है कि KYC नहीं हो पाने की वजह से बैंक किसी का खाता 31 दिसंबर तक फ्रीज नहीं कर सकेंगे. दरअसल, कई मामले ऐसे देखने को मिले हैं जिसमें लोगों को कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए पैसों की जरूरत है, लेकिन उनका खाता सिर्फ इसलिए फ्रीज कर दिया गया क्योंकि उनका KYC नहीं हुआ था. यानी वो खाते से पैसा नहीं निकाल सकते थे. अकाउंट फ्रीज करने के पहले कई बार कोई नोटिस भी नहीं दिया जाता है. ऐसे खातों का KYC अपडेट होने में 4-5 दिन या कभी कभी तो हफ्ते भर का वक्त भी लग जाता है. लेकिन अब रिजर्व बैंक के इस नए आदेश के बाद उनका खाता 31 दिसंबर 2021 तक फ्रीज नहीं किया जा सकता है. 

ये भी पढ़ें- RBI Updates: कोरोना संकट पर RBI की ‘आर्थिक वैक्सीन’ बैंकों, हेल्थ इमरजेंसी के लिए खोले राहत के दरवाजे

 

वीडियो KYC का दायरा बढ़ाया गया

साथ ही रिजर्व बैंक ने ऐलान किया है कि अब वीडियो KYC का दायरा बढ़ाया जाएगा. प्रॉपराइटरशिप फर्म, ऑथराइज्ड सिग्नेटरी और वैधानिक इकाइयों के लाभार्थी मालिक भी वीडियो KYC सुविधा का लाभ उठा सकेंगे. RBI ने KYC के पीरियॉडिक अपडेशन के लिए भी वीडियो KYC सुविधा की इजाजत दी गई है. आपको बता दें कि हाई रिस्क कस्टमर्स का दो साल में कम से कम एक बार KYC अपडेशन होता है. जबकि मीडियम रिस्क कस्टमर्स का साल में एक बार और कम रिस्क वाले कस्टमर्स का 10 साल में एक बार KYC अपडेशन होता है. इसी को पीरियॉडिक अपडेशन कहते हैं.

Digilocker से भी KYC 

शक्तिकांता दास ने कहा कि ग्राहक इस बीच अपना KYC अपडेट करवा लें. KYC अपडेट करने के लिए सभी डिजिटल चैनलों का इस्तेमाल किया जा सकता है. आरबीआई गवर्नर ने कहा कि Aadhaar Card के आधार पर खोले गये ऐसे बैंक खाते जिनमें ग्राहक और बैंक कर्मचारी आमने-सामने नहीं थे उन्हें अबतक सीमित KYC खातों की श्रेणी में रखा गया था. अब ऐसे सभी खाते पूर्ण KYC की श्रेणी में आयेंगे. KYC के लिए इलेक्ट्रॉनिक दस्तावेज भी मान्य होंगे, साथ ही Digilocker से जारी पहचान के दस्तावेजों को भी वैध पहचान पत्र माना जाएगा. 

SBI ने KYC अपडेट आसान किया

आपको बता दें कि देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण और कई राज्यों में लगे लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू जैसे प्रतिबंधों को देखते हुए अपने ग्राहकों के लिए KYC अपडेट (KYC Update) कराने की प्रक्रिया को आसान कर दिया है. ये खबर SBI के उन कस्टमर्स के लिए बड़ी राहत लेकर आया है जिनका KYC अपडेट नहीं होने की वजह से कोई काम अटका हुआ है. SBI ने फैसला किया है कि उसके कस्टमर्स KYC अपडेट कराने के लिए डॉक्यूमेंट्स को ई-मेल या पोस्ट के जरिए भेज सकते हैं. कागजों को लेकर उन्हें ब्रांच जाने की कोई जरूरत नहीं है. 

ये भी पढ़ें- 7th Pay Commission: DA की 3 बकाया किस्तों पर फंसा पेंच, सरकार के साथ बैठक टली, एरियर मिलेगा या अटकेगा ?

LIVE TV

 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here