[ad_1]

  • Hindi News
  • Business
  • Reliance Industries Profit, RIL Revenue Profit, RIL Mukesh Ambani, RIL, Mukesh Ambani , RIL Result

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई33 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
दिसंबर की तिमाही की बात करें तो कंपनी का शुद्ध फायदा 12.5%  बढ़कर 13,101 करोड़ रुपए था। कंपनी ने अक्टूबर से दिसंबर की तिमाही में उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन किया था। 2020 में जुलाई से सितंबर की तिमाही में कंपनी को 10,602 करोड़ का शुद्ध मुनाफा हुआ था - Dainik Bhaskar

दिसंबर की तिमाही की बात करें तो कंपनी का शुद्ध फायदा 12.5%  बढ़कर 13,101 करोड़ रुपए था। कंपनी ने अक्टूबर से दिसंबर की तिमाही में उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन किया था। 2020 में जुलाई से सितंबर की तिमाही में कंपनी को 10,602 करोड़ का शुद्ध मुनाफा हुआ था

  • कंपनी के रेवेन्यू में 2-3 पर्सेंट की बढ़त का अनुमान है
  • जनवरी-मार्च के दौरान 1.39 लाख करोड का रेवेन्यू हो सकता है

निजी क्षेत्र की देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) को चौथी तिमाही में दोगुना मुनाफा हो सकता है। यह 13 हजार 248 करोड़ रुपए रह सकता है। जबकि इसकी बिक्री में मामूली बढ़त होने की उम्मीद है।

13,248 करोड़ का फायदा हो सकता है

विश्लेषकों के मुताबिक इस ऑयल टू टेलीकॉम कंपनी को 2020-21 की जनवरी-मार्च की तिमाही में 13,248 करोड़ रुपए का फायदा हो सकता है। यह एक साल पहले इसी समय की तुलना में 109% ज्यादा होगा। एक साल पहले इसी अवधि में कंपनी को 6,348 करोड़ रुपए का फायदा हुआ था। कंपनी का शेयर गुरुवार को 1.30% बढ़त के साथ 2020 रुपए के ऊपर बंद हुआ था।

बिक्री 2-3 पर्सेंट बढ़ सकती है

रिलायंस इंडस्ट्रीज अपना रिजल्ट शुक्रवार को जारी करेगी। विश्लेषकों का अनुमान है कि मार्च तिमाही में इसकी बिक्री में 2 से 3% तक की मामूली बढ़त हो सकती है। कोटक सिक्योरिटीज ने कहा है कि बिक्री में 2% की बढ़त होगी और यह 1 लाख 39 हजार करोड़ रुपए रह सकती है। जो कि एक साल पहले इसी समय में 1 लाख 36 हजार 240 करोड़ रुपए थी।

रिटेल बिजनेस में होगी रिकवरी

जेएम फाइनेंशियल का अनुमान है कि इसके रिटेल बिजनेस में रिकवरी दिखेगी और जियो के ग्राहकों की बढ़त से टेलीकॉम में भी बढ़त दिखेगी। जियो के प्रति ग्राहक की कमाई में थोड़ी बढ़ होने का अनुमान है। बता दें कि रिलायंस इंडस्ट्रीज में 20% हिस्सेदारी बेचने की डील सउदी की अरामको के साथ अभी भी अटकी है। कंपनी लंबे समय से कोशिश कर रही है।

निवेशकों की होगी नजर

वैसे रिजल्ट से इस बार विदेशी निवेशकों को ज्यादा उम्मीदें होंगी। कारण कि जियो में मुकेश अंबानी ने हिस्सेदारी बेचकर जो 1.52 लाख करोड़ रुपए जुटाया है, उसके एवज में अभी कोई मजबूत प्लान नहीं बन पाई है। जबकि इस रकम को जुटाए करीबन 1 साल हो गया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर पिछले 8-10 महीनों से दबाव में है और हाल में तो यह 1800 रुपए तक चला गया था। ऐसे में निवेशकों को यह उम्मीद रहेगी कि मुकेश अंबानी की आगे की क्या योजना है, जिससे उनके निवेश पर उन्हें कुछ हासिल हो सके।

शुद्ध फायदा 13,101 करोड़ रुपए था

दिसंबर की तिमाही की बात करें तो कंपनी का शुद्ध फायदा 12.5% बढ़कर 13,101 करोड़ रुपए था। कंपनी ने अक्टूबर से दिसंबर की तिमाही में उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन किया था। 2020 में जुलाई से सितंबर की तिमाही में कंपनी को 10,602 करोड़ का शुद्ध मुनाफा हुआ था। तिमाही के दौरान कंपनी का ऑपरेशंस से रेवेन्यू घटकर 1,28,450 करोड़ रुपए हो गया था। रिलायंस जियो का नेट प्रॉफिट 15.5% बढ़कर 3,489 करोड़ रुपए हुआ था। अक्टूबर से दिसंबर तिमाही में जियो का रेवेन्यू 22,858 करोड़ रुपए था और इसके 41 करोड़ ग्राहक हैं।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here